त्र्यंबकरोड-गंगापुर मार्ग के कार्य में खामियां

    -मदन बोरसे

    सातपुर: सातपुर विभाग में त्र्यंबकरोड-गंगापुर लिंक रोड (Trimbakrod-Gangapur Link Road) पर मोतीवाला कॉलेज (Motiwala College) से सुला वाइन सर्कल तक डिवाइडर (Dividers) का काम चल रहा है। कामकाज में सही नियोजन और सावधानी नहीं बरतने से सड़क दुर्घटनाएं (Road Accidents) बढ़ गई हैं। महानगरपालिका कमिश्नर कैलास जाधव से कामकाज का प्रत्यक्ष निरीक्षण कर सातपुरवासियों को राहत देने की मांग शिवसेना के उप महानगर प्रमुख देवा जाधव ने की, परंतु वे इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। 

    पिछले एक साल से यह कार्य चल रहा है, जिसमें कई खामियां हैं। यह सातपुर-अंबड औद्योगिक वसाहत को जोड़ने वाली मुख्य सड़क है। इसलिए यहां पर दिन-रात बड़े वाहनों के साथ-साथ अन्य वाहनों की यातायात होती है। 

    यातायात जाम होने से बढ़ीं दुर्घटनाएं  

    नियोजन शून्य कामकाज के चलते यातायात ठप होने से दुर्घटनाएं बढ़ गई हैं। इसके लिए स्थानीय नगरसेवक और महानगरपालिका सातपुर विभागीय कार्यालय के निर्माण उप अभियंता जिम्मेदार हैं। पार्थ पैलेस होटल से श्रमिकनगर और सात माऊली बस स्टॉप तक डिवाइडर महिंद्रा कंपनी की सुरक्षा दीवार से चिपकाकर लिया गया। इस बारे में अधिकारियों से संपर्क करने के बाद उन्होंने कहा कि डिवाइडर का काम पूर्ण होने के बाद सड़क का चौड़ीकरण किया जाएगा। 

    पिछले माह गैस पाइपलाइन बिछाने की गई है खुदाई  

    इस सड़क पर विद्युत पोल, पथदीप के साथ महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के पास पार्क किए गए कामगारों के वाहन तथा टूटी-फूटी हालत में पड़े बड़े वाहनों को पहले हटाना जरूरी है। इसके बाद सड़क का चौड़ीकरण कर डिवाइडर का काम करना चाहिए था, लेकिन डिवाइडर का काम पहले ही करने से परिसर के नागरिक परेशान हैं।  पिछले माह महाराष्ट्र नेचरल गैस कंपनी ने गैस पाइपलाइन बिछाने के लिए जगह-जगह पर खुदाई की है, जिसकी मरम्मत अभी तक नहीं की गई है। इसके चलते कार्बन नाका के पास श्री शिव छत्रपति शिवाजी महाराज मनपा स्कूल के समाने आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। 

    कोल्हे का कामकाज विवादास्पद!

    निर्माण विभाग के अधिकारी कोल्हे स्थानीय नगरसेवकों के इशारे पर काम करते हैं। नियोजन शून्य डिवाइडर के कार्य के चलते संबंधित अधिकारी को दिमाग है या नहीं? ऐसा सवाल अब नागरिक उठा रहे हैं। ठेकेदार के पक्ष में कोल्हे काम कर रहे हैं। इसके चलते उनके द्वारा किए जा रहे कई कार्य विवादास्पद हैं।

    डिवाइडर के कार्य से पहले सड़क के चौड़ीकरण का काम करना आवश्यक था, परंतु स्थानीय नगरसेवकों के कहने पर संबंधित अधिकारी के गलत काम करने से आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। इसके चलते सभी परेशान हो गए हैं। जल्द से जल्द कामकाज में सुधार नहीं हुआ तो संबंधित अधिकारी और नगरसेवकों पर हत्या का मामला दर्ज कराया जाएगा। फिर भी सुधार न होने पर जनांदोलन किया जाएगा।

    -करण गायकर, अध्यक्ष, छावा क्रांतिवीर सेना