Gang running fake currency caught in Lasalgaon

    लासलगांव. लासलगाव में लगातार मिल रहे फर्जी नोटों के प्रेस की तलाश करने में लासलगाव पुलिस थाना के अधिकारियों को सफलता मिली है। इस मामले में कार्यवाही करते हुए लासलगांव पुलिस ने जाली नोट चलाने वाले पांच लोगों के एक गिरोह को गिरफ्तार कर उनके पास से 1,45,500 रुपये के 291 नकली नोट बरामद किए हैं।  एशिया में प्याज के प्रमुख बाजार लासलगांव में एक महिला डॉक्टर सहित पांच लोगों का एक गिरोह सक्रीय था, जो नकली नोटों के वितरण में शामिल था, गौरतलब है कि लासलगांव मंडी में करोडों का व्यव्हार नकदी में भी होता है, एैसे में मंडी में नकली नोटों के आने से पूरे लासलगांव शहर में हलचल मची हुई थी। नकली नोट चलाने वाले गिरोह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

    12 अक्टूबर को पुलिस को मिली गुप्त सूचना के आधार पर लासलगांव में मोहन बाबुराव पाटील और डॉ. प्रतिभा बाबुराव घायाल दोनों बोराडे हॉस्पीटल के पास, लासलगांव और विठ्ठल चंपालाल नाबरीया, कृषीनगर, कोटमगाव रोड लासलगांव निवासी से कड़ी पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि उनका दोस्त रविंद्र हिरामण राऊत, निवासी स्मारक नगर, पेठ और विनोद मोहनभाई पटेल, पंचवटी नाशिक निवासी, यह दोनों व्यक्ती उन्हें शाम में नकली ५०० की नोटें देने आने वाले हैं।  एैसी जानकारी पुलिस को दी गई।  इस सूचना पर पुलिस अधीक्षक सचिन पाटिल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक माधुरी कांगणे, पुलिस उपअधीक्षक सोमनाथ तांबे के मार्गदर्शन में लासलगांव के सहायक पुलिस निरीक्षक राहुल वाघ के नेतृत्व में पुलिस उप निरीक्षक रामकृष्ण सोनवणे, उप निरीक्षक राजेंद्र अहिरे, पुलिस हवालदार बाळु सांगळे, पुलिस नाईक कैलास महाजन, योगेश शिंदे, संदिप शिंदे, कॉन्टबल प्रदिप आजगे, गणेश बागुल, कैलास मानकर, सागर आरोटे, देविदास पानसरे, महिला पुलिस सिपाही मनीषा शिंदे के दस्ते ने जाल बिछा कर येवला रोड विंचुर में मोहन पाटील, डॉ. प्रतिभा घायाळ, विट्ठल नावरीया को ५०० की २९१ नकली नोटें देने के लिए आए रविंद्र हिरामण राऊत और विनोद मोहनभाई पटेल को हिरासत में ले लिया। 

    उनके पास से इटीऑस कार (MH 03 CH 3७६२) और कार में रखे 500 के 291 नोट और इटीऑस कार की किमत ४०,००० जब्त की गई।  इन लोगों ने बाजारों में 500 से 291 नकली नोट चलाने के लिए लाया था, इस शिकायत पर पुलिस कांस्टेबल प्रदिप आजगे की फर्याद पर लासलगांव पुलिस थाना में सभी आरोपियों के खिलाफ भादवि कलम 489 क. ई के अनुसार गुन्हा दाखिल किया गया है।  अधिक जांच सहा.  पुलिस निरीक्षक राहुल वाघ के मार्गदर्शन में पुलिस उप निरीक्षक रामकृष्ण सोनवणे कर रहे हैं।