Oxygen Concentrators

    नाशिक : नाशिक (Nashik) में कोरोना (Corona) की तीसरी लहर (Third Wave) के खिलाफ जिलाधिकारी कार्यालय (Municipal Administration), जिला परिषद (Zilla Parishad) और महानगरपालिका प्रशासन (Municipal Administration) ने युद्ध स्तर पर तैयारी शुरू कर दी है। जिले के 110 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (Primary Health Centers) में जिला परिषद की तरफ से 226 ऑक्सीजन कॉन्सन्ट्रेट (oxygen concentrator) बिठाए गए हैं। ऐसे में इन केंद्रों से प्रति मिनट 10 लीटर ऑक्सीजन मिलेगा। प्रशासन ने 15 से 18 उम्र के लड़कों के वैक्सीनेशन को भी गति दी है। ग्रामीण भागों में सर्दी से पीड़ित हर मरीज का आरटीपीसीआर टेस्टिंग की जा रही है।

    जिले में 6 लाख नागरिक कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के पात्र हैं। लेकिन उनके द्वारा डोज लेने में टालमटोल करने की जानकारी सामने आई है। एक तरफ मरीज चौगुनी रफ्तार से बढ़ रहे है। ऐसे में वैक्सीन लेने में नागरिकों की दिलचस्पी नहीं होने से प्रशासन का सरदर्द बढ़ रहा है। हर किसी को अपने परिवार का ध्यान रखना है, हर कोई खुद के वैक्सीनेशन के लिए भी आगे आए। कोरोना के सभी नियमों का पालन करने की अपील प्रशासन ने की है।

    सख्त नजर रखी जाएगी

    जिलाधकारी कार्यालय ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई की लिए पूरी तयारी की है। कोविड कंट्रोल रूम की जिम्मेदारी हर अधिकारी को सौंपी गई है। उन्हें वैक्सीनेशन कंट्रोल, कोविड सेंटर के निर्माण,  कोविड में मरने वालों के परिवार की मदद, हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की सप्लाई,  आपदा प्रबंधन, स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिलाधिकारी खुद इस पर सख्त नजर रख रहे है।

    महानगरपालिका भी तैयार

    नाशिक में महानगरपालिका ने ऑक्सीजन की अच्छी व्यवस्था की है। हर दिन 4000 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का स्टॉक रखा जा रहा है। इसके लिए ऑक्सीजन तैयार करने वाले 23 प्रोजेक्ट तैयार किये गए है। इससे 23 टन ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। द्रव ऑक्सीजन की लिए 246 मीट्रिक टन क्षमता के 19 टंकी है। 130 मीट्रिक टन स्टॉक के लिए 7271 ऑक्सीजन सिलेंडर तैयार रखे गए है।

    बेड की पर्याप्त व्यवस्था

    महानगरपालिका हॉस्पिटल में 8 हजार बेड तैयार है। इनमें से 2200 बेड्स में ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था है। बिटको हॉस्पिटल में सबसे अधिक 600 ऑक्सीजन बेड की व्यवस्था है। जरुरत पड़ने पर और 250 बेड की व्यवस्था रखी गई है।