Thackeray government spent 160 crores on advertising, not paying attention to debt-ridden farmers - BJP MLA Dr. Rahul Aher's allegation

    देवला. जैसे ही पंजाब (Punjab) के नवनिर्वाचित (Newly Elected) कांग्रेस मुख्यमंत्री (Congress Chief Minister) ने पदभार ग्रहण (Take Over) करते ही, उन्होंने पंजाब के किसानों (Farmers) के लिए पानी और बिजली बिल (Electric Bill) माफ करने की घोषणा की। इसी तरह देवला-चांदवड़ (Devla-Chandvad) महाराष्ट्र (Maharashtra) के किसानों का बिजली बिल भी माफ किया जाए।  एैसी गुहार देवला के विधायक डॉ. राहुल अहेर (Dr. Rahul Aher) ने महाविकास अघाड़ी सरकार (Mahavikas Aghadi Government) से लगाई है।

    पदभार ग्रहण करने के 24 घंटे के भीतर पंजाब के नवनिर्वाचित कांग्रेस मुख्यमंत्री ने पंजाब के किसानों के लिए पानी और बिजली बिल को माफ करने की घोषणा की और महाराष्ट्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली महाविकास अघाड़ी सरकार में भी कोरोना काल में किसानों को 24 महीने बिजली कटौती का सामना करना पड़ा। राज्य में बिजली बिल की जबरन वसूली की जा रही है।  कांग्रेस का पंजाब के किसानों के लिए एक न्याय और महाराष्ट्र के किसानों के लिए अलग न्याय, क्या यह महाराष्ट्र के साथ दोहरा व्यवहार नहीं है? एैसा सवाल डॉ. राहुल आहेर ने खड़ा किया है। 

    जिस तरह पंजाब की कांग्रेस सरकार (Congress Government) ने पंजाब के किसानों का पानी और बिजली का बिल माफ कर दिया, उसी तरह महाराष्ट्र के किसानों के लिए भी बिजली बिल और पानी के बिल को माफ करके, महाविकास अघाड़ी की सरकार को न्याय दिया जाना चाहिए।  एैसी मांग विधायक डॉ. राहुल आहेर राज्य सरकार से कर रहे हैं।