MSRTC employees strike continues in Maharashtra, 40 bus depots closed
Representative Photo

    पुणे : जल्द ही दिवाली (Diwali) के छुट्टियों (Holidays) के दौरान लोग अपने गृहनगर (Hometown) और गांवों (Villages) की ओर लौटना शुरू करेंगे, जिससे यात्रियों (Passengers) की भीड़ (Crowd) शुरू हो जाएगी।

    महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (MSRTC) पुणे डिवीजन ने यात्रियों की अतिरिक्त (Excessive) भीड़ को संभालने (Handle) के लिए बसों और मार्गों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया है। हालांकि यात्रियों की संख्या कम होने के कारण मंडल फिलहाल घाटे में चल रहा है, लेकिन उसने इस साल दिवाली के लिए मार्गों को बढ़ाने की योजना बनाई है।

    बसों और रूट का खुलासा नहीं

    महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम पुणे मंडल नियंत्रक रमाकांत गायकवाड़ ने कहा कि पुणे शहर में बड़ी संख्या में कामकाजी लोग और बाहर से आने वाले छात्र त्यौहार समारोह के लिए अपने गृहनगर वापस जाते है। इसलिए हमने त्यौहार शुरू होने से लगभग 10 दिन पहले बसों और मार्गों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया है। ‘इसमें कोल्हापुर, सतारा, औरंगाबाद, सांगली, नागपुर, पंजिम और अन्य मार्ग शामिल होंगे।

    दिवाली त्यौहार के दौरान भारी भीड़ होती है और कोविड मानदंडों का पालन करते हुए यात्रियों को बसों में प्रवेश करने की अनुमति दी जाती है। यात्रियों से महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम ने अपील की है कि अपनी सुरक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा दिए गए सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल का यात्री सख्ती से पालन करें।

    यात्रियों में खुशी की लहर

    पिछले एक साल में महामारी के कारण महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम बसों से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या में काफी गिरावट आई है। साथ ही कई महीनों से राज्यव्यापी लॉक डाउन के कारण बस सेवा बंद थी। इस फैसले का स्वागत करते हुए एक यात्री ने कहा, ‘मैं मूल रूप से सोलापुर का रहने वाला हूं और यहां एक बैंक में काम करता हूं। मैं हर साल दिवाली के लिए अपने गांव जाता हूं। हमारे गांव में केवल महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम की बस जाती है और कोई दूसरा विकल्प नहीं है, इसलिए यह अच्छा है कि वे त्योहारी सीजन के लिए बसों की संख्या बढ़ा रहें है।