Delhi Schools Reopening : Schools will reopen in Delhi in a phased wise manner
Representative Photo

    पुणे. पुणे महानगरपालिका प्राथमिक शिक्षा विभाग (Pune Municipal Corporation Primary Education Department) को सक्षम करने के लिए पीएमसी (PMC) प्रशासन द्वारा विभिन्न उपाय योजनाएं मुहैया की जा रही है। इसके तहत छात्रों (Students) की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए प्रयास किया जाएगा। इससे सम्बंधित नियोजन शिक्षा विभाग द्वारा किया गया है। शिक्षा समिति के माध्यम से यह नीति (Policy) बनाई जाएगी। इसका प्रस्ताव समिति के समक्ष रखा है। इस पर समिति की आगामी बैठक में फैसला होगा। 

    ज्ञात हो कि महानगरपालिका की ओर से शहर में प्राथमिक साथ ही माध्यमिक विभाग की करीब 287 स्कूल चलाई जाती हैं। इसमें करीब 1 लाख तक छात्र पठाई करते हैं। इसमें बालवाडी, पहली कक्षा से लेकर चौथी कक्षा, पांचवीं से सातवीं कक्षा साथ ही आठवीं कक्षा से लेकर दसवीं कक्षा तक के स्कूल शामिल हैं। विगत कई सालों से देखने को मिल रहा है कि मनपा स्कूलों के छात्रों की तादाद कम होती जा रही है। इस वजह से ये तादाद बढ़ाने के लिए प्रशासन द्वारा विभिन्न प्रयास किए जा रहे है। 

    स्कूलों में छात्रों की तादाद बढ़ाने की कवायद 

    ज्ञात हो कि बालवाड़ी के बाद कई अभिभावक अपने बच्चों का दाखिला निजी स्कूलों में कराते हैं। इस तरह का माहौल पांचवीं और आठवीं कक्षा को लेकर देखने को मिलता है। मनपा स्कूलों के छात्र गरीब घर के होते है। माली हालत खराब होने के कारण इन बच्चों के अभिभावक शिक्षा के लिए मनपा स्कूलों में आते हैं। लेकिन उन्हें स्कूल बंद नजर आते हैं। इस वजह से इन लोगों को निजी स्कूलों का सहारा लेना पड़ता है। जिस कारण इस साल मनपा प्रशासन ने महानगरपालिका स्कूलों में छात्रों की तादाद बढ़ाने एवं पाठशाला में कम हो रही छात्रों  संख्या को रोकने के लिए और अगली कक्षाओं की पढ़ाई के लिए भी मनपा के स्कूलों में ही छात्र प्रवेश लें, इसके लिए महानगरपालिका प्रशासन की ओर से छुट्टी में भी 2 घंटे तक स्कूल शुरू रखें थे। साथ ही स्कूलों में शनिवार को बिना बस्ते वाली पढ़ाई का उपक्रम भी चलाया जा रहा है। इससे भी छात्रों को फायदा हो रहा है। 

     ऐसी होगी शिक्षा नीति

    • कक्षा पहली और दूसरी के लिए लेखन और वाचन उपक्रम
    • अप्रगत छात्रों के लिए बाल वाटिका भाग 1 और  2 
    • छात्रवृत्ति परीक्षा संबधी शिक्षक प्रशिक्षण
    • कक्षा पहली से आठवीं तक के छात्रों के लिए अंग्रेजी भाषा समृध्दी

    उपक्रम

    • गणित संबोध दृढीकरण – 4 स्तर पर अध्यापन
    • अभिभावकों में जनजागृति और सहभाग