CRIME

    पुणे. पुलिस आयुक्तालय (Police Commissionerate) के बड़े अधिकारी (Senior Officer) द्वारा अपराध दर्ज करने की तैयारी किये जाने और जान को खतरा रहने की धमकी देकर आरटीआई कार्यकर्ता (RTI Activist) से दो लाख रुपए का हफ्ता मांगा गया। 75 हज़ार रुपए लेने के बाद भी सवा लाख रुपए के लिए बार-बार धमकी दी जा रही थी। इस मामले में दो तथाकथित पत्रकार के खिलाफ शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन में फिरौती का मामला दर्ज किया गया है। इस मामले में सुधीर रामचंद्र आलाट (51) ने शिकायत दर्ज कराई है। इस मामले में तथाकथित पत्रकार राहुल कांबले और जहीर मेमन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुधीर रामचंद्र आलाट भाजपा शिवाजी नगर निर्वाचन क्षेत्र के पूर्व अध्यक्ष है। वह भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल रहे है। वे सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों, राजनीतिक नेताओं के भ्रष्टाचार की शिकायत प्रधानमंत्री, सीबीआई, ईडी, मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, पुलिस महासंचालक, एसीबी, पुणे पुलिस कमिश्नर, पुणे महानगरपालिका आयुक्त से शिकायत करते रहे है। आलाट से जानकारी पाने के बहाने से कांबले ने उन्हें फोन  किया और कहा कि मुझे तुम्हारा इंटेंशन समझ में आ गया है। हम कब मिल सकते है? उन्होंने कहा कि, मेरे आंख का ऑपरेशन होने वाला है इसलिए जल्द मिल लो। इस पर कांबले ने कहा कि आलाट आप मुझसे जल्दी मिलो। आपके खिलाफ बड़ा कांड चल रहा है।

    इसके बाद आलाट ने कांबले और मेमन से एक होटल में मुलाकात की। दोनों ने आलाट से कहा कि 5 से 6 बड़े लोग आपके पीछे लगे है। उन्होंने हमसे आपकी शिकायत की है। हमारी शिकायत पर आपके खिलाफ पुलिस आयुक्तालय के पुलिस अधिकारी ने केस दर्ज किया है और आपको गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया है। अगर आपको इस मामले से बचना है तो 2 लाख रुपए देने होंगे। आप 2 लाख रुपए देंगे तो बचे रहेंगे नहीं तो पुलिस अधिकारी आपको अंदर करेंगे। राहुल कांबले ने आलाट  के सामने पुलिस अधिकारी, वकील और अन्य दो-तीन लोगों को फोन कर कहा कि हम आलाट के खिलाफ शिकायत वापस ले रहे है। इसके बाद आलाट ने समय-समय पर दोनों को 75 हज़ार रुपए दिए। शेष बचे एक लाख 25 हज़ार रुपए के लिए दोनों बार-बार फोन कर आलाट को धमकी देते थे। इससे तंग आकर आलाट ने एंटी एक्सटॉर्शन स्क्वॉड से दोनों की शिकायत की थी।