Mixed effect of Maharashtra bandh in Bhiwandi

    भिवंडी : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखीमपुर (Lakhimpur) खीरी में हुए किसानों (Farmers) के हत्याकांड (Massacre) के विरोध में महाविकास आघाडी द्वारा बुलाए गए महाराष्ट्र बंद का मिलाजुला असर भिवंडी में दिखाई पड़ा।  सुबह से दोपहर तक मुख्य बाजार और मुख्य सड़कों के किनारे की दुकानें और अन्य प्रतिष्ठान बंद नजर आए।

    महाविकास आघाडी में शामिल शिवसेना, कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेताओं ने भिवंडी बंद को पूरी तरह से सफल बताया। बंद के दौरान सुबह से ही शहर में सुरक्षा को लेकर पुलिस का  चाक-चौबंद बंदोबस्त किया गया था, चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किए गए थे। बंद के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं प्राप्त हुई है। 

    योगी सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी

    गौरतलब है कि महाविकास आघाडी की तरफ से 11 अक्टूबर को बुलाए गए महाराष्ट्र बंद को सफल बनाने के लिए भिवंडी शिवसेना शहर प्रमुख सुभाष माने, कांग्रेस अध्यक्ष रशीद ताहिर मोमिन, राष्ट्रवादी कांग्रेस शहर अध्यक्ष शोएब खान गुड्डू, समाजवादी पार्टी की तरफ से रियाज शेख, अराफात शेख सहित सभी दलों के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने शहर में जगह-जगह प्रदर्शन कर केंद्र सरकार, उत्तर प्रदेश सरकार और किसानों की हत्याकांड का विरोध करते हुए प्रदर्शन किया तथा मोदी और योगी सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी भी किया।

    राजनोली नाका पर प्रदर्शन कर 

    एनसीपी शहर जिलाध्यक्ष शोएब खान गुड्डू के नेतृत्व में महानगरपालिका मुख्यालय के सामने से डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के पुतले तक रैली निकालकर नारेबाजी की और दुकान खोलने वालों को गुलाब देकर हत्याकांड के विरोध में अपना विरोध प्रकट किया। वहीं पूर्व सेना विधायक रूपेश महात्रे राष्ट्रवादी कांग्रेस तालुका अध्यक्ष गणेश गुलवी, अरुण पाटिल, महेंद्र पाटिल और कांग्रेस पार्टी के ग्रामीण अध्यक्ष राकेश पाटिल के नेतृत्व में राजनोली नाका पर प्रदर्शन कर विरोध किया गया।

    दुकान बंद कराते नजर आए

    वंजारपट्टी नाका से एस टी स्टैंड की तरफ भिवंडी शहर कांग्रेस अध्यक्ष रशीद ताहिर मोमिन, प्रदेश महासचिव तारीक फारुकी, पूर्व सांसद सुरेश टावरे के साथ शिवसेना शहर प्रमुख सुभाष माने और उनकी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने किसानों के हत्याकांड का विरोध प्रदर्शन करते हुए दुकानदारों से अपनी दुकानें बंद रखने की अपील की। कामतघर क्षेत्र में शिवसेना नगरसेवक मनोज काटेकर के नेतृत्व में शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने कामतघर क्षेत्र और धामनकर नाका क्षेत्र में दुकान बंद कराते नजर आए।

    लोगों को काफी दिक्कतें झेलनी पड़ी

    कई जगहों पर तो ऐसा देखने को मिला कि एक तरफ महाविकास आघाडी में शामिल राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने बंद कराया और उसके कुछ ही घंटों बाद दुकानदारों ने अपनी दुकानें  खोलकर अपना व्यवसाय का काम शुरू किया। शहर के अंदरूनी क्षेत्रों में पावरलूम कारखानों में बंदी का बेहद कम असर दिखाई पड़ा। इस तरह से भिवंडी शहर में बंद का मिलाजुला असर देखने को मिला।  उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में किसानों के हत्याकांड के विरोध में सोमवार को बड़ी संख्या में शिवसेना के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे शिवसेना ठाणे जिला ग्रामीण प्रमुख प्रकाश पाटिल, सेना विधायक शांताराम मोरे के नेतृत्व में पड़घा में शिवसैनिकों ने मुंबई नाशिक हाईवे पर उतरकर शिव सैनिकों ने योगी सरकार और मोदी सरकार के विरोध में नारे लगाए और आधा घंटा तक हाईवे की यातायात को रोक कर चक्का जाम किया, जिसके कारण सड़क पर चलने वाले वाहनों की लाइन लग गई। पुलिस के हस्तक्षेप से शिवसैनिकों को सड़क से हटाकर रास्ता यातायात के लिये पूर्ववत खोला गया।  बंद की वजह से लोगों को काफी दिक्कतें झेलनी पड़ी।