File Pic
File Pic

    • एसटी श्रमिकों की हडताल लगातार जारी,बसफेरीयां पुरी तरह ठप्प

    यवतमाल. राज्य परिवहन निगम को सरकारी विभाग में विलीन करने की मांग को लेकर किए जा रहे एसटी कर्मचारीयों के हडताल में शामिल जिले के 57 चालक, वाहकों को निलंबित कर दिया गया है. सरकार और महामंडल प्रशासन के इस कारवाई के बाद हडताली कर्मचारीयों में रोष व्याप्त हो चुका है.

    बता दें की राज्य समेत यवतमाल जिले में यवतमाल और जिले के 9 एसटी डिपों में महामंडल को सरकारी विभाग में विलीन करने और एसटी श्रमिक करार के आर्थिक मुददों को लेकर बिते 27 अक्तुबर से जारी हडताल आज 10 नवंबर को भी जा थी. इसके चलते यवतमाल जिले में रापनि की परिवहन सेवा पुरी तरह ठप्प पडी हुई है. किसी भी डिपों में एसटी बसफेरीया ना होने यात्रीयों को काफी परेशानीयों का सामना करना पड रहा है, तो दुसरी ओर निजी ट्रैव्हल और यात्री परिवहन करनेवाले यात्री वाहनों की चांदी हो रही है.

    एसटी बससेवा ठप्प पडी होने से प्रशासनिक स्तर पर निजी ट्रैव्हल्स और यात्री वाहनों को यात्रीयों के आवाजाही के लिए अनुमति दी गयी है. लेकिन उन्हे बसस्थानक परिसरों से यात्री लेकर जाने पर रोक लगायी गयी है. हालांकी सभी बस डिपों में हडताल जारी होने से वहां पर विरानी छायी हुई है. तो दुसरी ओर एसटी बस ड्रायवहर, कंडक्टर, यांत्रीकी विभाग से लेकर विभागीय नियंत्रण कार्यालय के कुछ कर्मचारी भी उपरोक्त मांगों को लेकर हडताल में शामिल है.जिले में एसटी बसफेरीयां 100 फिसदी बंद पड जाने से महामंडल और सरकार को हर दिन मुनाफा और राजस्व के तौर पर करोडों रुपयों का नुकसान झेलना पड रहा है.

    अब महामंडल प्रशासन और सरकार ने हडताली कर्मचारीयों के खिलाफ कारवाई की तलवार चलाते हुए 9 सितंबर को राज्यभर में सैंकडों एसटी कर्मचारीयों कों निलंबित करने के आदेश जारी किए, इसमें यवतमाल के तीन डिपो रालेगांव डिपों के 13,पांढरकवडा डिपो के 22 और यवतमाल डिपो के 22 इस तरह मिलाकर कुल 57 कर्मचारीयों को हडताल में शामिल होने के बाद निलंबीत करने के आदेश जारी किए गए. विभागीय नियंत्रक कार्यालय और डिपो में निलंबित कर्मीयों की सुची जारी की गयी थी, इसके अलावा पुलिस प्रशासन द्वारा हडताल कर रहे कर्मचारीयों पर न्यायालय के आदेशों की अवमानना के आधार पर नोटीस जारी की गयी, एैसी जानकारी हडताली एसटीकर्मीयों ने दी.

    आजाद मैदान पर किया धरना प्रदर्शन,निकाला मोर्चा

    यवतमाल में जुने बसस्थानक पर आज भी एसटी श्रमिकों की हडताल लगातार जारी रही, इसें राजनितीक दलों ने समर्थन दिया है.इसी बीच आज राष्ट्रीय मुलनिवासी बहुजन कर्मचारी संगठना ने स्थानिय आजाद मैदान में एसटी श्रमिकों के हितों और मांगों पर धरना प्रदर्शन किया, इसमें संगठन से जुडे पदाधिकारीयों समेत एसटी श्रमिक शामिल हुए. इसके बाद यहां से मोर्चा निकाला गया, जिसके बाद जिलाधिकारी के जरीए सरकार और परिवहन मंत्री को ज्ञापन भेजा गया. जिसमें एमएससीआरटी को राज्य सरकार के विभाग में विलीन करने, एसटीसीबी बैंक कर्जमाफी देने, मृत और आत्महत्याग्रस्त कर्मचारीयों को  50 लाख का बिमा देने, महामंडल में आवेदन और कार्यप्रणाली रदद करने की मांग ज्ञापन के जरीए की गयी.