File Photo
File Photo

    • सिर्फ पास के फेरियां शुरू : जिले से बाहर बस यातायात हुआ प्रभावित

    वणी. पिछले 47 दिनों से चल रही हड़ताल में अब तक वणी डिपो को 1.60 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है. यहां डिपो में अब तक 42 कर्मचारियों ने काम करना शुरू कर दिया है और 180 कर्मचारी अब भी हड़ताल में हिस्सा ले रहे हैं. बस सेवा बंद होने से यात्रियों को दोगुने किराए के लिए निजी वाहनों पर निर्भर रहना पड़ रहा है.

    धरना 31 अक्टूबर से जारी है. हड़ताल ऐन दिवाली की पूर्व संध्या पर शुरू हुई और इससे वणी डिपो को भारी आर्थिक झटका लगा. इस दौरान वाणी डिपो की रोजाना की आमदनी कम से कम पांच लाख रुपए थी.

    हालांकि, हड़ताल के कारण एसटी का यात्री यातायात हड़ताल के कारण बाधित रहा, जिससे वणी डिपो की दैनिक आय पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा. वहीं, वणी डिपो रोजाना 3 लाख रुपये कमाती हैं. हालांकि, पिछले 47 दिनों से इस आय में गिरावट आ रही है.

    वणी डिपो में कर्मचारियों की संख्या 222 है. हालांकि, उनमें से 42 कर्मीयों ने चरणों में काम करना शुरू कर दिया है. हालांकि 180 कर्मचारी अपनी मांगों पर अड़े हैं. हड़ताल के दौरान वणी डिपो के 20 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया, जबकि पांच कर्मचारियों को बडतर्फ कर दिया गया.

    वर्तमान में वणी डिपो से केवल सात फेरियां चल रहे हैं. इसी बीच वणी डिपो ने कुछ कर्मचारियों की भर्ती कर वणी-यवतमाल और वणी-पाटन बस सेवा शुरू की. हालांकि अज्ञात लोगों ने दोनों बसों पर पथराव कर दिया था. बस क्षतिग्रस्त हो गई. यवतमाल की बस पर करंजी में पथराव किया गया जबकि वणी तहसील के मानकी गांव के पास पाटन बस पर पथराव किया गया. दोनों घटनाओं के बाद अज्ञात के खिलाफ संबंधित थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है.

    उसके बाद वणी डिपो ने बस फेरियों8 को बंद कर दिया. पथराव ने यात्रियों के मन में भी भय पैदा कर दिया. हालांकि दो दिन बाद बसें फिर से शुरू हो गई हैं. वणी से रालेगांव, पांढरकवडा, झरी, पाटन, मुकुटबन के लिए चरणबद्ध तरीके से बसें जारी की जा रही हैं. हालांकि, इन दौरों में यात्रियों की प्रतिक्रिया न्यूनतम रही है. आदिलाबाद को छोड़कर जिले से वणी आने वाली बसें फिलहाल बंद हैं. आदिलाबाद वणी यहां नियमित रूप से आने वाले आदिलाबाद डिपो की बस है. इस बस में यात्री यात्रा कर रहें है. इससे मुकुटबन झरी रूट पर यात्रियों को राहत मिली है.

    निजी परिवहन धूम, 

    वणी में निजी परिवहन फलफूल रहा है क्योंकि बस कर्मचारी हड़ताल पर हैं. वणी-चंद्रपुर मार्ग पर सुबह छह बजे से 50 से 60 वाहन यात्रियों को चंद्रपुर से आने-जाने के लिए ले जा रहे हैं. चंद्रपुर का किराया लगभग तीनसौ रुपए लिया जा रहा है.