पंजाब के मुख्यमंत्री हैं महिलाओं की सुरक्षा के लिए खतरा, NCW ने सोनिया गांधी से की चन्नी को पद से हटाने की अपील

    नई दिल्ली: पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह  (Charanjit Singh Channi) चन्नी को लेकर एक अलग ही बवाल शुरू हो गया है। राष्ट्रीय महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा  (Rekha Sharma) ने उनके मुख्यमंत्री बनाने पर विरोध जताया है। उन्होंने कहा है कि जिस पार्टी की अध्यक्ष महिला हो उन्होंने उसे मुख्यमंत्री बना दिया है। यह  महिलाओं के लिए खतरा है। वह मुख्यमंत्री बनने के लायक नहीं है। उनकी जांच होने चाहिए। मैंने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से चरणजीत सिंह को सीएम पद से हटाने की मांग की है।   

    महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने कहा, ‘2018 में मी टू आंदोलन के दौरान उनके (पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी) के खिलाफ आरोप लगाए गए थे। राज्य महिला आयोग ने मामले का स्वतः: संज्ञान लिया था और अध्यक्ष उन्हें हटाने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए थे, लेकिन कुछ नहीं हुआ’

    बीजेपी नेता अमित मालवीय ने जताया विरोध 

    इससे पहले बीजेपी नेता अमित मालवीय ने इस पर विरोध जताया था। उन्होंने चरणजीत को मुख्यमंत्री बनाने पर एक ट्वीट किया था, उन्होंने ट्वीट में लिखा ‘कांग्रेस के सीएम ने चरणजीत चन्नी को 3 साल पुराने #MeToo मामले में कार्रवाई का सामना करना पड़ा। उसने कथित तौर पर 2018 में एक महिला आईएएस अधिकारी को एक अनुचित संदेश भेजा था। इसे कवर किया गया था लेकिन पंजाब महिला आयोग द्वारा नोटिस भेजे जाने पर मामला फिर से सामने आया।अच्छा किया, राहुल।’

    ज्ञात हो कि पूर्व मुख़्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद कांग्रेस आलाकमान ने चरणजीत को मुख्यमंत्री बनाया। वह 2007  में पहली बार निर्दलीय विधायक के रूप में चुने गए थे। २०१२ में उन्हें कांग्रेस की सीट से चुना गया। पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई।