Protest in West bengal
ANI Photos

    हावड़ा. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के हावड़ा में स्थानीय लोगों ने भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) के विवादित बयान को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। NH 116 पर अंकुरहाटी के पास हुए विरोध प्रदर्शन के कारण यातायात ठप हो गया। वहीं, प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की।

    सीएम ममता बनर्जी ने कहा, “मैं इस तरह के (हिंसक) विरोध का समर्थन नहीं करता। अगर आप सभी इतने नाराज हैं तो दिल्ली जाइए और वहां शांति से विरोध प्रदर्शन कीजिए और पीएम के इस्तीफे की मांग कीजिए। आप यहां समस्या क्यों पैदा कर रहे हैं? मैं आप सभी से शांति बनाए रखने और विरोध वापस लेने का अनुरोध करती हूं।”

    राज्य सचिवालय नबन्ना से मीडिया को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि सड़कों को ब्लॉक करने और आंदोलन से राज्य में अन्य अप्रिय घटनाएं हो सकती हैं। उन्होंने कहा, बंगाल शांति के लिए खड़ा है और सत्ता में आने के बाद टीएमसी सरकार ने सड़क अवरोधों को रोक दिया था। मैं सभी जातियों, समुदायों और पंथों के लोगों से सड़क नाकाबंदी रोकने का अनुरोध करती हूं क्योंकि इससे आम लोगों के लिए कई समस्याएं पैदा होंगी।”

    ममता ने कहा कि मैं इस तरह के (हिंसक) विरोध का समर्थन नहीं करती। अगर आप सभी इतने नाराज हैं तो दिल्ली जाइए और वहां शांति से विरोध प्रदर्शन कीजिए और पीएम के इस्तीफे की मांग कीजिए। आप यहां समस्या क्यों पैदा कर रहे हैं? मैं आप सभी से शांति बनाए रखने और विरोध वापस लेने का अनुरोध करती हूं।

    उल्लेखनीय है कि, पुरे देश में वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद मामले को लेकर चर्चा शुरू है। वहीं, 27 मई को नुपुर शर्मा एक नेशनल टेलीविजन न्यूज चैनल में डिबेट के लिए गई थी। जहां, उन्होंने ने बहस के दौरान आरोप लगाया कि कुछ लोग हिंदू आस्था का लगातार मजाक उड़ा रहे हैं। अगर यही है तो वह भी दूसरे धर्मों का मजाक उड़ा सकती हैं। नूपुर ने इसके आगे इस्लामी मान्यताओं (पैगंबर मोहम्मद) का जिक्र किया।

    शर्मा पर आरोप है कि, उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी की। इसके बाद, कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर कुछ मुस्लिम देशों ने इसका विरोध किया। विवाद बढ़ने पर भाजपा ने रविवार को नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया था और दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से निष्कासित कर दिया था।