sanghmitra

    नयी दिल्ली/लखनऊ.  एक बढ़ी ही रोचक खबर के अनुसार उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में आज यानी रविवार को BJP के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन में उस समय थोड़ी हलचल बढ़ गई, जब सांसद संघमित्रा मौर्य (Sanghmitra Maurya) नाराज होकर वापस अपनी कुर्सी पर आकर बैठ गईं।  इतना ही नहीं उनकी नाराजगी से उनके समर्थक भी भड़क गए और जमकर नारेबाजी शुरू कर दी।  इस दौरान मंच पर CM योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) भी मौजूद थे।  हालांकि, बाद में संघमित्रा मौर्य ने अपने समर्थकों को आगे बध्लर  समझाया और नारेबाजी न करने और ना ही कोई बैनर दिखाने का अनुरोध किया। 

    क्या था मामला ? 

    गौरतलब है कि रविवार को मौर्य समाज का एक सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन हो रहा था।  इसी कार्यक्रम में बदायूं से बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य भी प्रमुखता से मौजूद थीं।  वहीं संघमित्रा मौर्या जब मंच पर बोल रही थीं, तभी उन्हें बीच भाषण में रोक दिया गया।  कुछ देर तक तो मंच पर एक दम से सन्नाटा छा गया, लेकिन फिर बाद में संघमित्रा भी नाराज होकर अपनी कुर्सी पर आकर बैठ गईं।  

    इधर संघमित्रा को बोलने नहीं देने से नाराज उनके समर्थकों ने वहीं नारेबाजी शुरू कर दी।  वैसे इसके बाद उत्तरप्रदेश BJP के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का भाषण था।  लेकिन तभी उनके समर्थकों ने जोर-शोर से नारेबाजी शुरू कर दी।  इसके बाद मंच से ये भी कहा गया कि संघमित्रा नाराज नहीं हैं।  लेकिन तब भी नारेबाजी होती रही।  फिर जब उसके CM योगी आदित्यनाथ ने संघमित्रा की ओर देखा, तब उन्होंने खड़े होकर अपने समर्थकों को शांत भी कराया। 

    इस घटना पर संघमित्रा बोलीं- ” हम यहाँ किसी से नाराज नहीं। ” उन्होंने अपने समर्थकों को मंच से कहा, “आप लोग कृपया अपनी जगह पर बैठ जाइए।  हमारी नाराजगी समाज से या शीर्ष नेतृत्व से नहीं है।  हमें डिस्टर्ब किया जा रहा था, इसलिए हम बैठे क्योंकि हम अपनी बात रखने में कोई भी बाधा बर्दाश्त नहीं करते हैं।  हमारी नाराजगी शीर्ष नेतृत्व से नहीं है और न पार्टी से है।  इसलिए में यहाँ आप सबसे निवेदन करती हूं क्योंकि हमारे सामने प्रदेश के अध्यक्ष, प्रदेश के मुखिया हैं, इसलिए अनुशासन का परिचय दें।  हमारा समाज अनुशासन में रहा है और अनुशासन में रहकर ही अपने हक के लिए लड़ा है, इसलिए कृपया यहाँ अपनी अनुशासन का परिचय दें। ” 

    गौरतलब है कि इस नारेबाजी के साथ-साथ अनेकों बैनर भी दिखाए जा रहे थे।  लेकिन बाद में मंच से संघमित्रा ने अपने समर्थकों से इन सारे बैनर को नीचे करने की भी अपील की।  जिसे बाद में उनके समर्थकों ने मान भी लिया।