92 वर्षीय मरीज ने दी कोरोना को मात

प्रबल इच्छाशक्ति हो तो कोरोना को दे सकते हैं मात

कल्याण. कोरोना का प्रभाव कल्याण डोंबिवली में तेजी से बढ़ता चला जा  रहा है, एक तरफ जहां कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 27 सौ को पार कर 3000 तक पहुंचने वाली है, वहीं दूसरी तरफ एक सकारात्मक बात यह है कि एक 92 वर्षीय मरीज ने कोरोना को मात दे दी है और वह सकुशल अपने घर लौट आई है, जिसका लोगों द्वारा स्वागत किया गया.

कोरोना वायरस के चपेट में आने के बाद कोरोना से जंग कर रही कल्याण स्थित निऑन हॉस्पिटल में भर्ती 92 वर्ष उम्र की सुमति नार्वेकर ने आखिरकार कोरोना को मात दे दी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल से डिस्चार्जे कर दिया गया. 92 वर्षीय वृद्धा सुमति नार्वेकर द्वारा उपचार के दौरान कोरोना को मात देने में सफलता प्राप्त करने के बाद यह दिखा दिया है कि उम्र कितनी भी ही प्रबल इच्छाशक्ति हो तो कोरोना को भी मात दी जा सकती है, घर लौटने पर असली कोरोना योद्धा वृद्ध महिला का परिजनों एवं स्थानीय नागरिकों द्वारा गर्मजोशी से स्वागत किया गया.