संस्कृति युवा प्रतिष्ठान की दही हंडी इस बार रद्द

कोरोना के चलते आयोजकों ने लिए निर्णय 

कोरोना के लिए उपयोग में लाएंगे आयोजन का खर्च

ठाणे. कोरोना महामारी को नियंत्रित करने तथा इसके प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस वर्ष दहीहंडी उत्सव नहीं मनाने का आग्रह सभी सार्वजनिक मंडलों से किया था. उनके इस आग्रह का सभी सार्वजनिक मंडलों में सकारात्मक प्रतिसाद देखने को मिल रहा है. ठाणे में संस्कृति युवा प्रतिष्ठान ने इस वर्ष दहीहंडी का उत्सव नहीं मनाए जाने की जानकारी शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक ने दी. 

सोमवार को आयोजित एक पत्रकार परिषद में उन्होंने कहा कि दही हंडी का उत्सव संस्कृति युवा प्रतिष्ठान के बैनर तले पिछले कई वर्षों से बड़े ही धूमधाम से किया जाता रहा है. लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी कोरोना ने महाराष्ट्र सहित ठाणे जिले और ओवला-माजीवाड़ा विधान क्षेत्र में भी तेजी से फ़ैल रहा है. क्योंकि कोरोना का संक्रमण सिर्फ सोशल डिस्टेंसिंग से ही रोका जा सकता है. और दही हंडी उत्स्व में बड़ी संख्या में ठाणे कर इस उत्सव को देखने के लिए आते है और गोविंदा थड़ लगाकर हंडी को जोड़ते हैं. ऐसे यदि दही हंडी का आयोजन किया भी जाता तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाता है. इसीलिए राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस बार सभी आयोजकों से उत्स्व न मनाने का निर्देश दिया था. इसलिए उत्सव को रद्द कर आयोजन के लिए आने वाले खर्च को कोरोना के संक्रमण के रोकथाम के लिए उपयोग किया जाएगा. 

पत्रकार परिषद के दौरान नगरसेवक पूर्वेश सरनाईक ने बताया कि शहर के अधिकांश अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों का उपचार किया जा रहा है. मौसम में बदलाव के कारण होने वाले सर्दी, जुकाम, बुखार आदि बीमारियों का इलाज कराने के लिए लोग अस्पतालों में जाने से कतराते हैं. एक तो उन्हें कोविड मरीज बताए जाने का डर होता है, तो वहीं दूसरी ओर कोविड के नाम पर निजी अस्पताल वाले मनमाना बिल वसूल कर रहे हैं. इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए विधायक प्रताप सरनाईक ने अपने स्वखर्च से करीब एक करोड़ रुपए मूल्य की दवाइयां और सुरक्षा किट मुफ्त वितरित करने के लिए मंगवाई है, जिसे पत्रकार, पुलिस, मनपाकर्मी और जरूरतमंदों के बीच वितरित किया जाएगा. इनमें अच्छे दर्जे की पीपीई किट, कफ-खांसी की दवाई, विटामीन सी व डी की गोलियां, दर्द निवारक गोलियां, एसीडिटी की दवाइयां, सेनेटाइजर व एक लाख मास्क आदि का समावेश है.