India-Nepal JWG meet on joint rail projects, discussion on these rail routes
File

  • कोंकण रेलवे ने की ट्रेनसेट की डिलीवरी

नवी मुंबई. कोंकण रेलवे ने माडर्न सुविधाओं से युक्त 1600 एचपी डेमू ट्रेनसेट को नेपाल तक पहुंचाकर नयी सफलता हासिल कर ली है. रेलवे मंत्रालय के मार्गदर्शन में एक देश से दूसरे देश में डेमू ट्रेन सेट पहुंचाने का यह अपनी तरह का पहला मामला है. गौरतलब है कि यह सफलता मेक इन इंडिया-मेक फॉर वर्ल्ड और एक्सपोर्ट परियोजना के तहत हासिल हुई है, ताकि नेपाल में भारत का और मजबूत अस्तित्व तैयार हो सके. 

कोंकण रेलवे कार्पोरेशन ने नेपाल रेल विभाग के साथ 10 मई 2019 को यह करार किया था जिसके तहत भारत के 1600 एचपी की दो डेमू ट्रेन डिलीवर करनी थी. चेन्नई की रेल कोच फैक्टरी में इन दोनों डेमू ट्रेन सेट का निर्माण हुआ था. इन पर कुल 52.46 करोड़ का खर्च हुआ है. डेमू के एक ट्रेनसेट में एक डीजल पावर कार, एक डीजल ट्रेलर कार एवं तीन ट्रेलर कार के साथ ही एक एयरकंडीशन कार शामिल है. दोनों ही ट्रेनसेट आधुनिक एसी-एसी कन्ट्रोल प्रोपल्सन सिस्टम से लैंस हैं.

जयनगर से कुरथा के बीच चलेगी ट्रेनें

बता दें कि नेपाल रेलवे की डिमांड पर कोंकण रेलवे ने इन दो ट्रेनों का सेट सुरक्षित ढंग से उनके गंतव्य तक पहुंचाकर एक बड़ी भूमिका निभाई है. कोंरे की टीम ने इन ट्रेनों को भारत के जयनगर से नेपाल के जनकपुर तक पहुंचाया. इन ट्रेनों को पैसेंजर ट्रेन के तौर पर भारत के जयनगर से नेपाल के कुरथा के बीच चलाई जाएगी. कोंकण रेलवे के सीएमडी संजय गुप्ता ने सफल डिलीवरी पर खुशी जताते हुए कहा कि नेपाल सरकार के संसाधन विकास और रेलवे विभाग के साथ काम करते हुए कोंकण रेलवे को खुशी है कि हम इसके जरिए भारत-नेपाल संबंधों को और मजबूती देने और मेक इन इंडिया-मेक फार वर्ल्ड में भूमिका निभाने में सहयोग कर रहे हैं.