जेएनपीटी का सुसज्ज पार्किंग प्लाजा प्रारंभ

  • 1538 ट्रैक्टर ट्रेलरों को खड़ा करने की सुविधा

नवी मुंबई. डायरेक्ट पोर्ट एंट्री को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण पहल करते हुए जेएनपीटी ने निर्यात कंटेनरों के लिए सुसज्ज पार्किंग प्लाजा की शुरूआत कर दी है. गुरूवार को जनेप के अध्यक्ष संजय सेठी पार्किंग प्लाजा में सुविधाओं का जायजा लिया. 45 हेक्टेयर में फैले इस पार्किंग प्लाजा में एक समय में 1,538 ट्रैक्टर ट्रेलरों को पार्क करने की क्षमता है.

इस पार्किंग प्लाजा का विकास फैक्ट्री में भरे गए निर्यात कंटेनरों को ले जाने वाले ट्रैक्टर ट्रेलरों जिन्हे पहले  विभिन्न स्थानों पर पार्क किया जाता था उन्हे एकीकृत रूप से पार्क करने के लिए किया गया है. इस पार्किंग प्लाज़ा में अत्याधुनिक सुविधाओं और सेवाओं से सीमा शुल्क द्वारा दस्तावेजी प्रक्रिया को एकीकृत करने में मदद होगी.

इस पार्किंग प्लाजा का प्रबंधन रियल टाइम पार्किंग प्रबंधन प्रणाली द्वारा किया जाएगा और इसमें वाईफाई सुविधा भी होगी. इसमें ट्रक चालकों को रहने के लिए शयनकक्ष, भोजन के लिए कैंटीन, अच्छे शौचालय, वाहनों की मरम्मत तथा रखरखाव और  वाणिज्यिक भवन के लिए जगह है.प्लाजा सिस्टम से जेएनपीटी की सड़कों पर कंटेनर ट्रकों की आवाजाही कम होगी तथा संबंधित टर्मिनलों को बेहतर तरीके से अपने ट्रैक्टर ट्रेलरों की गतिविधियों की योजना बनाने में मदद होगी

सुरक्षा और निगरानी के पुख्ता इंतजाम

पार्किंग प्लाजा का प्रचालन, प्रबंधन और रखरखाव के लिए निर्मला ऑटो केयर सेंटर द्वारा किया जाएगा. यहां प्रत्येक प्रवेशद्वार और लेन पर गार्ड और स्टाफ तैनात होंगे जो प्रवेश की औपचारिकता पूरी करने के लिए ट्रैक्टर ट्रेलरों को संबन्धित प्रवेशद्वार और लेन पर जाने के लिए मार्गदर्शन करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ट्रैक्टर ट्रेलरों को प्रवेश के लिए कतार में इंतजार न करना पड़े . यहां एमआईएस सिस्टम भी होगा, जिसमें ट्रैक्टर ट्रेलरों का विवरण जैसे कि चालक का नाम, संपर्क संख्या, प्रवेश का समय, ट्रक नंबर, कंटेनर नंबर, कंटेनर का आकार, प्रकार (सूखा / खतरनाक / रिफर), शिपिंग बिल संख्या, सीएचए संपर्क संख्या, टर्मिनल आदि दर्ज किया जाएगा.

ट्रैक्टर ट्रेलर को उसकी विशेषताओं जैसे कि गंतव्य टर्मिनल, कार्गो का प्रकार, कंटेनर का आकार आदि के आधार पर एक पार्किंग नंबर आवंटित किया जाएगा । एकत्रित की गई सभी जानकारी पार्किंग नंबर के साथ जोड़ी जाएगी और दिनांक, समय और मोहर के साथ एक यूनिक आईडी आवंटित करके उसे केंद्रीय सर्वर में संग्रहीत किया जाएगा.