खुलेआम चल रहा था फर्जी तरीके से ट्रैवल एजेंसी का कारोबार, हुई छापेमारी

    हमीरपुर : पैसे कमाने की आड में कई लोग गैरकानूनी तरीका अपनाते हैं और इस वजहसे व्यवस्था को इसका भारी नुकसान झेलना पड़ता हैं। पिछले कई सालों से हमीरपुर जिले में फर्जी तरीके से ट्रैवल्स एजेंसी चलाने का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। प्राइवेट बसें, सारे नियमों को ताक पर रखकर सवारियों को सदर बस स्टॉप से भरती हैं। शिकायत पर जिला प्रशासन ने संयुक्त टीम बनाकर ट्रैवल्स एजेंसियों के ऑफिस में छापेमारी की। बिना रजिस्ट्रेशन चल रही ट्रैवल एजेंसियों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं। छापेमारी के वक्त कई बातें सामने आयी। 

    एक दर्जन ट्रैवल्स एजेंसी फर्जी

    बता दें कि पिछले कई सालों से जिला मुख्यालय में सदर बस स्टॉप के आस-पास दर्जनों की संख्या में प्राइवेट ट्रेवल्स एजेंसियों के ऑफिस खुले हैं। ट्रैवल्स एजेंसियों की बसें, सरकारी बस स्टॉप के सामने से ही सवारिया उठाती हैं। एक-दो नहीं बल्कि करीबन दर्जन भर ट्रेवल एजेंसी फर्जी है। सवाल ये उठता हैं की इतनी बड़ी संख्या में अब तक फर्जी ट्रेवल एजेन्सी कैसे काम कर रही थी।  

    कई बार शिकायतों के बाद जिला प्रशासन ने की छापेमारी

     गैरकानुनी या फर्जी काम को इतना बढ़ावा क्यों मिलता हैं। एक शिकायत में करवाई  क्यों नहीं हो पाती। कई बार हुई शिकायतों के बाद जिला प्रशासन की टीम ने एजेंसियों के ऑफिस में छापा मारा तो एक एजेंसी संचालक को छोड़कर कोई भी अपना रजिस्ट्रेशन नहीं दिखा सका। फर्जी तरीके से चल रही ट्रेवल्स एजेंसियों से परिवहन विभाग को बड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है। 

    बिना रजिस्ट्रेशन चल रहे ऑफिसों को तुरंत बंद करने के निर्देश

    छापा मारने पहुंची एआरएम, एआरटीओ और एसडीएम की टीम ने बिना रजिस्ट्रेशन चल रहे ऑफिसों को तुरंत बंद करने के निर्देश दिए हैं।  संयुक्त टीम की कार्रवाई से फर्जी ट्रैवल्स एजेंसी चला रहे संचालकों में हड़कंप मच गया है।  कार्यवाही के बाद अब इन फर्जी ट्रैवल एजेंसी बंद करवा दी गई है।