UP Block Chief election

    राजेश मिश्र

    लखनऊ. उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष (Panchayat President) के चुनावों (Elections) में भाजपा (BJP) के हारी बाजी को जीत लेने के बाद अब ब्लाक प्रमुख (Block Chief) पद के चुनावों में भी वही नजारे दिख रहे है। प्रदेश के ज्यादातर जिलों में ब्लाक प्रमुख के पदों के लिए गुरुवार को हुए नामांकन में जमकर बवाल हुआ और गोलियां तक चलीं। विपक्षी दलों के कद्दवार नेताओं, पूर्व मंत्रियों तक को नामांकन दाखिल करने से रोका गया। जिला पंचायत अध्यक्ष की ही तर्ज पर निर्विरोध चुनाव का भी खेल जमकर चला है और ज्यादातर जगहों पर सत्ताधारी भाजपा के प्रत्याशी इसमें कामयाब रहे।

    हालांकि जिला पंचायत अध्यक्ष चुनावों से सबक लेते हुए ब्लाक प्रमुख के नामांकन के दिन विपक्षी समाजवादी पार्टी ने भी कई जगहों पर जमकर मोर्चा लिया। ब्लाक प्रमुख चुनावों में बड़े पैमाने पर सत्ता के दुरुपयोग और दबंगई का आरोप लगाते हुए समाजवादी पार्टी ने निर्वाचन आयोग से इसकी शिकायत की है। प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम की अगुवाई में राजधानी लखनऊ में निर्वाचन आयोग पहुंचे सपा के प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि नामांकन में जमकर अराजकता की गई और विपक्षी दलों के प्रत्याशियों को रोका गया है। 

    दर्जनों  राउंड की  गोलियां दागी गई

    गुरुवार को कन्नौज जिले में नामांकन के दौरान चल रहे बवाल को कवर करने वाले एक राष्ट्रीय न्यूज चैनल के संवाददाता को भाजपा समर्थकों ने जमकर पीट दिया।  सीतापुर में पुलिस की मौजूदगी में गोलियां और हथगोले चले। यूपी के सीतापुर जिले में थाना कमलापुर के कसमंडा में ब्लॉक प्रमुख चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी मुन्नी देवी के पर्चा दाखिल होने के दौरान जमकर गोलियां चलीं। किसी फिल्मी सीन की तरह निर्दलीय प्रत्याशी को नामांकन से रोकने के लिए दर्जनों राउंड गोलियां दागी गई। भारी तादाद में पुलिस की मौजूदगी में हथगोले भी फेंके गए। 

    सिद्धार्थनगर जिले में अपनी पत्नी का नामांकन दाखिल कराने गए पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडे के साथ जमकर हाथापाई हुई और उनके हाथ से पर्चा लेकर फाड़ दिया गया।अंबेडकर नगर जिले में भी ब्लाक प्रमुख नामांकन में जमकर बवाल हुआ। यहां बसपा के पूर्व मंत्री लाल जी वर्मा के हाथ से नामांकन का पर्चा छीन कर फाड़ दिया गया। 

    पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा

    हालांकि जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनावों से उल्टा इस बार कई जगहों पर सपा ने भी जमकर मोर्चा लिया। कुछ जगहों पर तो सपा के लोगों ने ही बवाल काटा और मारपीट भी की। महराजगंज में एक बीजेपी प्रत्याशी को दौड़ा कर पीटा गया।  मैनपुरी में बीजेपी विधायक की गाड़ी पर पथराव किया गया। बुलंदशहर में आमने सामने आ गए सपा-भाजपा समर्थकों को थामने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। झांसी जिले में ब्लाक प्रमुख के नामांकन को लेकर समाजवादी पार्टी और भाजपा के कार्यकर्ता आमने सामने भिड़ गए और जमकर पत्थर चले। 

    इस बीच कई जगहों पर भाजपा अपने प्रत्याशियों को निर्विरोध निर्वाचित करा पाने में कामयाब रही है।  भदोही के औराई ब्लाक में भाजपा प्रत्याशी निर्विरोध जीत गया।  आगरा जिले में तो ब्लाक प्रमुख के चुनाव में भाजपा ने ज्यादातर सीटें जीत लीं हैं।  आगरा में 15 ब्लॉक में से 12 ब्लॉक अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं और ये सभी भाजपा के ही हैं।  अब यहां केवल तीन ब्लॉक पर चुनाव होंगे जहां सपा से मुकाबला  है।  गाजीपुर से भाजपा के दो, बलरामपुर से भाजपा के ही पांच, बहराइच से एक, महराजगंज से एक, देवरिया से दो सहित छह दर्जन से ज्यादा ब्लाक प्रमुख निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। नामांकन वापसी का आखिरी दिन कल है।