DHIRENDRA

बलिया. एक खबर के अनुसार बलिया गोलीकांड (Baliya Firing) के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह (Dhirendra Pratap Singh) उर्फ डब्ल्यू समेत 6 फरार नामजद आरोपियों के खिलाफ अब पुलिस ने 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है।  बता दें कि बलिया में बीते 15 अक्टूबर को रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में हुए गोलीकांड के सम्बन्ध में इन फरार आरोपियों पर उक्त राशी घोषित की है। 

धीरेंद्र ने जारी किया था अपना विडियो :

वहीं इस सनसनीखेज कांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने खुद के द्वारा जारी वीडियो में यह दावा किया था कि उसके द्वारा कोई गोली नहीं चलायी गयी थी।  वहीं उसने मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।  उसने अपने बयान में यह दावा किया कि, “15 अक्टूबर को राशन की दुकानों का आवंटन होना था और इसी के चलते कई अधिकारी मौके पर आवंटन प्रक्रिया के लिए आए हुए थे।  मैंने भी इसी मामले SDM और BDO से मुलाकात की थी।” 

यही नहीं धीरेंद्र प्रताप का कहना था कि उसने ही अधिकारियों को क्षेत्र की स्तिथि के बारे में बताया था।  इसके साथ ही उसने SDM,BDO और अन्य बड़े अधिकारीयों पर भ्रष्टाचार के आरोप भी अपने विडियो में लगाए। उसका यह भी आरोप था कि  पुलिस और प्रशासन आवंटन प्रक्रिया को प्रभावित कर रहे थे और वही लोग इस घटना के जिम्मेदार हैं। 

पुलिस ने गिरफ्तार किये थे 2 आरोपी :

बता दें कि दो आरोपियों को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया जबकि मुख्य आरोपी अभी भी उसकी पकड़ से दूर है। अपर पुलिस अधीक्षक संजय यादव ने बताया कि पुलिस ने आज एक आरोपी देवेंद्र प्रताप सिंह  को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पूर्व पुलिस ने मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह के भाई नरेन्द्र प्रताप सिंह  को गिरफ्तार किया था। इस तरह पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

विधायक सुरेन्द्र सिंह, धीरेन्द्र के बचाव में : 

इधर अपने विवादित बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले जिले के बैरिया क्षेत्र के भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को रेवती कांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह का बचाव करते हुए इसे क्रिया की प्रतिक्रिया करार दिया । उन्होंने कहा कि धीरेंद्र प्रताप ने आत्मरक्षा में गोली चलाई है , वरना उसके परिवार के कई लोग और सहयोगी मार दिये गए होते। उन्होंने इसके साथ ही जोड़ा कि आत्मरक्षा के लिए असलहा लाइसेंस दिया जाता है। भाजपा विधायक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।

पुलिसकर्मी हुए सस्पेंड

वहीँ इस सनसनीखेज हत्याकांड में ADG पुलिस के निर्देशानुसार  पुलिस अधीक्षक (SP) ने 3 सब इंस्पेक्टर, 5 कॉन्स्टेबल और 2 महिला कॉन्स्टेबल को सस्पेंड किया गया है।  जिससे पुलिस खेमें में हलचल मची हुई है। 

बता दें कि जिले के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर ग्राम में बृहस्पतिवार को सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान के चयन के दौरान एक व्यक्ति की हत्या कर दी गयी थी। इस घटना का मुख्य आरोपी धीरेंद्र अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर है।