अय्याशी पूरी करने 7 लाख खर्च कर थाइलैंड से बुलाई कॉल गर्ल, कोरोना की चपेट में आने से लड़की की मौत

    लखनऊ: इस कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी जैसे भीषण संक्रमण के दौर में भी लोग अपने शौक पूरे करने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। उन्हें किसी बात का ध्यान नहीं है कि स्थिति और भी गंभीर हो सकती है। कोरोना की वजह से कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) भी लगाया गया है, लेकिन फिर भी कुछ लोग मस्ती भरपूर कर रहे हैं। एक ऐसी ही हैरान कर देने वाली खबर लखनऊ से सामने आई है। जहां व्यापारी पुत्र की अय्याशी काफी दबाने के बाद भी सुर्ख़ियों में आ गई।

    जहां देश में एक तरफ लोग ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए तरस रहे हैं, वहीं लखनऊ के इस व्यापारी बेटे ने कुल सात लाख रुपए खर्च करके थाइलैंड से कॉल गर्ल को लखनऊ बुलवाया। उस कॉल गर्ल (Call Girl) को लड़के ने 10 दिन पहले बुलाया था, जिसके बाद चार दिन पहले कॉल गर्ल की कोरोना की चपेट में आने से मौत हो गई। जब यह मामला चर्चा में आया तो जिम्मेदारों के पैरों तले जमीन खिसक गई। जिसके बाद से ही लखनऊ भी इंटरनेशनल कॉल गर्ल बुलाने के नाम में शुमार हो गया है।

    बता दें कि कॉल गर्ल के लखनऊ आने के तीन दिन बाद ही उसकी तबीयत खराब हो गई और उसको 28 अप्रैल को डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, गोमतीनगर में भर्ती करवाया गया। इलाज के दौरान जब कॉल गर्ल की तीन मई को मौत हो गई तो व्यापारी पुत्र ने खुद ही थाइलैंड एम्बेसी को सम्पर्क किया। लेकिन, यह मामला दो देशों के बीच था, इसलिए इसे दबाने के बावजूद दबाया नहीं जा सका। जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू कर दी। पुलिस के मुताबिक, यह कॉल गर्ल राजस्थान के रहने वाले एक ट्रैवेल एजेंट के संपर्क में थी। उसी ने इसे लखनऊ भेजा था, अब पुलिस एजेंट को भी तलाश कर रही है।

    इसके बाद पुलिस ने पहले थाईलैंड एम्बेसी में संपर्क कर उसके परिवार के लोगों को शव देने की कोशिश की, लेकिन जब नहीं हो पाया तो शनिवार को एजेंट सलमान की मौजूदगी में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। इसी एजेंट ने उसे भारत लाया था। कॉल गर्ल की मौत के बाद पुलिस अब राजधानी में पांव पसार रहे इंटरनेशनल कॉल गर्ल रैकेट के बारे में पता करने में जुट गई है। पुलिस का कहना है कि यह भी ट्रेस किया जा रहा है कि कॉल गर्ल के संपर्क में और कौन-कौन आया है।