modi-sharma

नई दिल्ली/लखनऊ. बीते शुक्रवार को BJP में शामिल हुए प्रशासनिक सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृति लेने वाले गुजरात काडर के पूर्व IAS अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा (A.K Sharma) को अब पार्टी ने उत्तर प्रदेश (UttarPradesh) की 12 विधान परिषद सीटों के लिए होने वाले द्विवार्षिक चुनाव के मद्देनजर शुक्रवार को अपना उम्मीदवार भी घोषित कर दिया है। अब इसके साथ ही अटकलों का बाजार गर्म हो गया है कि उन्हें प्रदेश सरकार में मंत्री बनाया जाएगा। हालाँकि इस पर पूर्व IAS अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा का कहना था कि पार्टी उन्हें जो भी जिम्मेदारी देगी, वे  पूरी ईमानदारी के साथ उसका निर्वहन करेंगे।

गौरतलब है कि PM मोदी (Narendra Modi) से नजदीकी के कारण भाजपा के नेताओं के बीच शर्मा को लेकर इस बात की चर्चा जोरों पर है कि उन्हें सरकार में कोई अहम जिम्मेदारी मिल सकती है। हालांकि इस बारे में आधिकारिक तौर पर अभी तक कुछ नहीं कहा गया है। बता दें कि शर्मा वर्ष 2001 से 2020 के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी सहयोगी अधिकारी के तौर पर काम कर चुके हैं। वह गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय तथा उसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में भी कार्यरत रहे हैं। उन्होंने समय से दो साल पहले ही स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली है।

इधर BJP के प्रांतीय प्रवक्ता चंद्रमोहन ने बताया कि शर्मा ने भाजपा के साथ काम करने की इच्छा जताई थी। शर्मा ऐसे समय भाजपा में शामिल हुए हैं जब पार्टी प्रदेश विधान परिषद की 12 सीटों के लिए आगामी 28 जनवरी को होने जा रहे चुनाव के लिए प्रत्याशियों के नाम तय कर रही है।

लेकिन राजनीतिक गणित तो कुछ और ही कहता है जहाँ राज्य की 12 विधान परिषद सीटों के लिए 28 जनवरी को मतदान होना है और नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तारीख आगामी 18 जनवरी है। अब जिन 12 सीटों पर चुनाव होने हैं उसके मौजूदा सदस्‍यों का कार्यकाल आगामी 30 जनवरी को पूर्ण हो रहा है। सेवानिवृत्त होने जा रहे विधान परिषद सदस्यों में स्वतंत्र देव सिंह, दिनेश शर्मा और लक्ष्मण आचार्य के अलावा विधान परिषद के सभापति रमेश यादव (समाजवादी पार्टी) प्रमुख हैं। ऐसे में SP के अहमद हसन और राजेंद्र चौधरी ने  विधान परिषद चुनाव के लिए अपने नामांकन दाखिल किए हैं। 

इधर सौ-सदस्यीय उत्तर प्रदेश विधान परिषद में एसपी के 55, बीजेपी के 25, बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के 8, कांग्रेस और निर्दलीय समूह के 2-2 और अपना दल (सोनेलाल) और शिक्षक दल के 1-1 सदस्य हैं। इनके अलावा विधान परिषद में 3 अन्य निर्दलीय सदस्य भी हैं। गौरतलब है कि उत्‍तर प्रदेश की 403 सदस्‍यों वाली विधानसभा में वर्तमान में 402 सदस्‍य हैं, जिनमें BJP के 310, SP के 49, बीएसपी के 18, अपना दल (सोनेलाल) के 9, कांग्रेस के 7, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के 4, निर्दलीय 3, राष्‍ट्रीय लोकदल का 1, निर्बल इंडियन शोषित हमारा अपना दल (निषाद) का 1 सदस्‍य हैं। बता दें कि BJP के साथ अपना दल (सोनेलाल) का गठबंधन है।

हालाँकि उत्‍तर प्रदेश के CM योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने मंत्रिमंडल विस्‍तार और विशेष रूप से पूर्व प्रशासनिक अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा को मंत्रिमंडल में शामिल किये जाने संबंधी अटकलों पर बीते शुक्रवार को कोई भी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त नहीं की। मुख्‍यमंत्री योगी बीते शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर संवाददताओं से बातचीत कर रहे थे। राजनीतिक हल्‍कों में ऐसी अटकले हैं कि मंत्रिमंडल का विस्‍तार होगा और विशेष रूप से शर्मा को उप मुख्‍यमंत्री बनाया जा सकता है, इस संबंध में पूछे जाने पर मुख्‍यमंत्री ने कहा, ‘‘ उनके (शर्मा) अनुभवों का उत्‍तर प्रदेश को लाभ मिलेगा।”