train

लखनऊ. अभी आ  रही खबर के अनुसार लखनऊ (Lucknow) के चारबाग स्टेशन (Charbaugh Station) के पास ट्रेन के दो डिब्बे पटरी से उतर गए हैं पर किसी यात्री के घायल होने की सूचना अभी प्राप्त नहीं हुई है। इस पर वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक ने कहा कि अमृतसर से जयनगर जा रही ट्रेन संख्या 4674 के दो डिब्बे लखनऊ में पटरी से उतरे हैं और किसी के कोई हताहत होने की खबर नहीं है। 

घटना के अनुसार  अमृतसर से जयनगर जा रही ट्रेन संख्या 4674 शहीद एक्सप्रेस के दो डिब्बे लखनऊ में पटरी से उतर गए, हालांकि घटना में कोई यात्री हताहत नहीं हुआ। इस पर वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगतोष शुक्ला ने बताया, ‘‘सोमवार सुबह करीब आठ बजे शहीद एक्सप्रेस जैसे ही चारबाग के प्लेटफॉर्म से आगे बढ़ी, उसके दो डिब्बे पटरी से उतर गये।

हालांकि, हादसे में किसी यात्री को कोई नुकसान नहीं हुआ।” उन्होंने बताया कि इन दोनों डिब्बों के यात्रियों को दूसरे डिब्बों में भेज कर जल्द ही ट्रेन रवाना कर दी जाएगी। रेलवे सूत्रों के अनुसार ट्रेन के दोनों डिब्बों के पटरी से उतरते ही यात्रियों में चीखपुकार मच गयी लेकिन रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने तुरंत स्थिति को संभाल लिया। हादसा चूंकि चारबाग रेलवे स्टेशन पर ही हुआ था इसलिए मामले को तुरंत संभाल लिया गया। 

इस मामले में उत्तर रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) संजय त्रिपाठी ने ‘भाषा’ को बताया कि सोमवार सुबह करीब आठ बजे शहीद एक्सप्रेस जैसे ही चारबाग के प्लेटफॉर्म नंबर-एक से आगे बढ़ी इसके दो डिब्बे पटरी से उतर गये। हालांकि, इस हादसे में कोई यात्री घायल नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि इन दो डिब्बों में एक एसी थ्री टायर का डिब्बा और एक स्लीपर का डिब्बा शामिल था। इन दोनों डिब्बों में 130 यात्री सवार थे।

उन्होंने बताया कि दोनों डिब्बों के यात्रियों को ट्रेन के दूसरे डिब्बों में सीट उपलब्ध करायी गयी। ट्रेन को 10 बजकर 25 मिनट पर रवाना कर दिया गया। त्रिपाठी ने बताया कि इस मामले की जांच के लिये तीन सदस्यीय जांच समिति बनाई गयी है और समिति से सात दिनों में अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि करीब 11 बजे से रेल यातायात पूरी तरह से सामान्य हो गया और पटरी से उतरे डिब्बों को वहां से हटा दिया गया है। रेलवे पुलिस के अधीक्षक सौमित्र यादव ने बताया कि ट्रेन स्टेशन से रवाना हो रही थी, तब यह हादसा हो गया। उस समय ट्रेन की गति पांच से सात किलोमीटर ही थी इसलिये कोई बड़ी घटना नहीं हुई।