murder
file photo

    पीलीभीत  उत्तर प्रदेश  पीलीभीत में मंगलवार को ईट के भट्टे में काम करने वाली दो बहनों की हत्या के मामले में पुलिस ने दावा किया है कि दोनों किशोरियों की हत्या उनकी मां और भाइयों ने मिलकर की थी। पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश ने बृहस्पतिवार को बताया कि दोनों लड़कियों के फोन पर बात करने से नाराज मां ने अपने दोनों बेटों के साथ मिलकर घर पर ही किशोरियों की कथित तौर पर गला दबाकर हत्या कर दी थी। मां ने जब गला दबाया तब दोनों भाइयों ने उनके पैर पकड़ रखे थे। छोटी बहन अंशिका की हत्या के बाद, जब बड़ी बहन पूजा वहां से भागी तो उसके बहनोई अनिल ने उसे पकड़ लिया और फिर सभी ने मिलकर उसकी हत्या भी गला दबाकर कर दी।

    बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस को गुमराह करने के लिए बड़ी बेटी पूजा के शव को पेड़ से लटका दिया गया और छोटी बेटी अंशिका का शव सड़क किनारे फेंक दिया। अधीक्षक ने बताया कि पुलिस से बचने के लिए दोनों बेटियों के शौच जाने के बाद से गायब होने की कहानी गढ़ी गयी थी। दोनों किशोरियों की हत्या की जानकारी शुरू से ही ईंट भट्ठा के मालिक अली हसन को थी। भट्टा मालिक ने परिवार को दोनों के शव ठिकाने लगाने और पुलिस को कुछ ना बताने की सलाह दी थी। 

    उन्होंने बताया कि इस हत्याकांड के खुलासे के बाद बीसलपुर कोतवाली पुलिस ने किशोरियों की मां कमला देवी, बड़े भाई राम प्रताप और भट्टा मालिक अली हसन को गिरफ्तार कर लिया है। छोटा भाई विजय तथा बहनोई अनिल अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। गौरतलब है कि पूजा (20) और अंशिका (17) के शव मंगलवार को अलग-अलग जगह से संदिग्ध परिस्थितियों में मिले थे।