lalitpur

ललितपुर. एक बड़े घटनाक्रम में ललितपुर (Lalitpur) कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत ग्राम रौंड़ा में एक  दलित वृद्ध के साथ बेरहमी से मारपीट करने के मामले के कोतवाली पुलिस ने दो आरोपियों के खिलाफ जातिसूचक शब्दों से अपमानित करने और मारपीट करने का मुकदमा दर्ज कर अपनी कार्रवाई शुरु कर दी है। वहीं अब बताया जा रहा है कि दलित वृद्ध ने अपने वक्तव्य में कहा है कि उसे कथित तौर पर पीटा गया और मूत्र (Urine) पीने के लिए मजबूर किया गया। हालाँकि वृद्ध के परिवार ने एक सप्ताह पहले आरोपी सोनू के खिलाफ एक पुलिस शिकायत की थी।

क्या थी घटना: 

ग्राम रौंड़ा निवासी अमर पुत्र काशीराम एवं चऊवा पुत्र गिरधारी ने कोतवाली पुलिस को दी गई अपनी तहरीर में बताया कि बीते 11 अक्तूबर को शाम साढ़े सात बजे जब वह हनुमत अहिरवार की दुकान से बीड़ी ले रहे थे तभी गांव के ही सोनू पुत्र फूलसिंह यादव, नरेंद्र उर्फ छोटू आए और गालियां देकर जातिसूचक शब्दों से उसका और चऊवा का अपमान किया । जब उन्होंने राजीनामा करने से मना किया लाठी डंडों से मारपीट कर दी। इससे वृद्ध अमर व चऊवा को हाथ पैरों में काफी चोटें आई थी और उन दोनों लोगों ने इन्हें जान से मारने की धमकी दी थी । तब मौके पर गांव व मोहल्ले के अन्य लोगों ने बीच बचाव किया था । बताया जाता है कि सोनू आपराधिक किस्म का व्यक्ति है, इससे पूर्व भी ऐसी कई घटनाएं कर चुका है। वहीं तहरीर के आधार पर कोतवाली पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एससीएसटी एक्ट, गाली गलौज कर मारपीट व जान से मारने की धमकी की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

वृद्ध अमर की आपबीती:

इसपर पीड़ित वृद्ध अमर ने बताया कि, “सोनू उन्हें अपना मूत्र पीने के लिए मजबूर कर रहा था। जब मैंने मना किया, तो उसने मुझ पर लाठी से हमला किया। उसने कुछ दिनों पहले मेरे बेटे पर कुल्हाड़ी से हमला किया था और हमने उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत की थी। इसलिए वह हमें समझौता करने के लिए मजबूर कर रहा था।”

पुलिस ने कहा- गुंडई बर्दाश्त नहीं 

इधर इस घटना पर मिर्ज़ा मंजर बेग, SP, ललितपुर का कहना है कि, ” कुछ प्रभावशाली लोगों ने रोड़ा गांव में 2 ग्रामीणों की पिटाई की है। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है। मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और इस मामले में शामिल अन्य लोगों की तलाश भी जोर शोर से जारी है। हम किसी भी तरह की गुंडई को बर्दाश्त नहीं करेंगे।”