पुलिसकर्मी का हुआ धर्म भ्रष्ट ! स्विगी ने पनीर रोल के बजाय डिलीवर किया चिकन रोल, जानें पूरा मामला

    इंदौर: दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो शाकाहारी (Vegetarian) हैं, जो मांस का सेवन भूलकर भी करना नहीं पसंद करते हैं। लेकिन, सोचिए अगर कोई इंसान जो शाकाहारी है, उसने कभी गलती से मांस (Non-Veg) का सेवन कर लिया हो, तो उसपर क्या बीतेगी, उसे कैसा फील होगा। वहीं अगर आया गलती उसकी न होकर किसी ऑनलाइन फ़ूड (Online Food) कंपनी की हो तो फिर आगे क्या होगा ये आप सोच ही सकते हैं। कुछ ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) से सामने आया है, जहां डीआईजी कार्यालय में तैनात एक कांस्टेबल को गलत फ़ूड डिलीवर (Constable Got Non-Veg Food From Swiggy) हुआ और उसने व्रत खोलने के लिए उस डिश का सेवन कर लिया। 

    इस वाक्या से कांस्टेबल बहुत नाराज है, क्योंकि ऐसा होने की वजह से एक तो उसका धर्म भ्रष्ट हो गया और दूसरा की उसने व्रत खोलने के लिए ऑनलाइन फ़ूड आर्डर किया था। कांस्टेबल की नाराजगी इससे साफ जाहिर होती है कि वह इस मामले को उपभोक्ता फोरम में ले जाने की बात कर रहा है। 

    ऑनलाइन डिलीवरी में हुई गलती 

    बता दें कि कांस्टेबल सोनू शर्मा की डीआईजी कार्यालय में तैनाती है। सोमवार को उनका व्रत था जिसे खोलने के लिए उन्होंने ऑनलाइन फूड डिलीवरी एप स्वीगी से इंदौर के सुदामा नगर स्थित फासोस रेस्तरां से वेज पनीर टिक्का रोल ऑर्डर किया था। लेकिन रेस्तरां वालों ने पनीर टिक्का रोल की जगह चिकन रोल की डिलीवरी कर दी। जिसके बाद कांस्टेबल सोनू शर्मा ने चिकन रोल की एक बाइट खा भी ली, जैसे ही उन्हें स्वाद में अंतर लगा तो उन्हें पता चला कि वह असल में चिकन है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांस्टेबल सोनू शर्मा को जैसे ही पता चला कि उन्होंने पनीर की जगह चिकन खा लिया है तो उन्हें दो बार उल्टियां हुईं और वह एक घंटे तक गर्म पानी से गरारे ही करते रहे। 

    अधिकारियों से की शिकायत

    इस पूरे मामले की शिकायत जब सोनू शर्मा ने रेस्तरां संचालक को दी तो वह माफी मांगने लगा। सोनू शर्मा ने बताया कि रेस्तरां संचालक ने उन्हें शिकायत नहीं करने के लिए कई ऑफर की भी दिए। लेकिन, कांस्टेबल ने इस मामले की शिकायत कलेक्टर, डीआईजी और एडीएम से की है। साथ ही वह अब इस मामले को उपभोक्ता फोरम ले जाने की बात भी कर रहे हैं।