एक देश जहां बच्चों को जन्म देने पर मिलते है पैसे, दूध और डायपर का भी खर्चा देती है सरकार

    नई दिल्ली: हम सब जानते है हर देश की अपनी एक अलग समस्या होती है और उस समस्या से लड़ने की उसकी अपनी सोच और योजना होती है। बढ़ती जनसंख्या हमारे देश की एक बड़ी समस्या है और सरकार इसे नियंत्रित करने के लिए तरह-तरह के जागरूकता अभियान चलाती है। वहीं, कुछ देश ऐसे भी हैं जहां जनसंख्या कम है और इसे बढ़ावा देने के लिए अलग-अलग नीतियां लागू की गई हैं। प्रत्येक देश की परिस्थितियों और आवश्यकताओं के अनुसार नियम और विनियम बदले जाते हैं। एक देश ऐसा भी है जहां बच्चों के जन्म के बाद पैसे दिए जाते हैं। आइए जानते है इस अनोखे देश के बारे में.. 

    बच्चों के जन्म के बाद सरकार देती है पैसा 

    बेलारूस में, यूरोप में, बच्चों को जन्म के समय पैसों का भुगतान किया जाता है। आपको बता दें कि मुंबई में रहने वाले ट्रैवल ब्लॉगर मिथिलेश ने इस बात की जानकारी दी। मिथिलेश ने अपने यूट्यूब चैनल पर बताया कि बच्चे के जन्म के बाद उन्हें बेलारूस सरकार की ओर से 1 लाख 28 हजार रुपये दिए गए। वह अपनी पत्नी के साथ बेलारूस में रहते हैं, इसलिए उन्हें यह पैसा दिया गया है। यह राशि सरकार द्वारा नए माता-पिता को दी जाती है। इसके बाद अगले 3 साल तक उन्हें 18,000 रुपये प्रति माह सरकार की ओर से भुगतान किया जाएगा। 

    हर महीने दिए जाते है 18 हजार रुपये 

    यह पैसा सीधे माता-पिता के खाते में जमा किया जाता है। उनकी पत्नी लीजा ने 2 महीने पहले नॉर्मल डिलीवरी के जरिए एक बच्चे को जन्म दिया है।यह राशि सरकार द्वारा नए माता-पिता को इसलिए दी जाती है ताकि उन्हें बेलारूस में बच्चों की परवरिश में कोई परेशानी न हो। बच्चों के जन्म पर बहुत खर्चा होता है, ऐसे में पहले तो लाखों की रकम होती है और फिर दूध-डायपर और ऐसी ही चीजों के लिए हर महीने 18 हजार रुपये दिए जाते हैं। मिथिलेश द्वारा शेयर किया गया यह वीडियो इस समय चर्चा में है। इस वीडियो पर कई रिएक्शन भी देखने को मिल रहे हैं। 

     

    बेबी बोनस 

    इसी बीच फिनलैंड में 2013 में लेस्तिजर्वी नगर पालिका में बेबी बोनस भी पेश किया गया, जिसके तहत बच्चे के पैदा होते ही उसे करीब 7 लाख 86 हजार रुपये दिए जाते थे। इन देशों में ऐसे बोनसों के माध्यम से जनसंख्या बढ़ाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाता है क्योंकि जनसंख्या भूमि की तुलना में बहुत कम है। इस वजह से यहां जनसंख्यां बढ़ाने के लिए इस तरह की निति लागू की है।