Photo: Get Maine Lobster
Photo: Get Maine Lobster

    वॉशिंगटन: सोशल मीडिया (Social Media) पर एक खबर ने तहलका मचा रखा है। यह खबर 5 नवंबर की है, जब मायन (Maine) में एक मछुआरे ने समुद्र (Sea) में मछली पकड़ने के लिए अपना जाल बिछाया। जिसके बाद उसके हाथ एक समुद्र की प्रजाति (Marine Species) लगी, जिसे देख हर कोई हैरान है। एक शख्स को मेन के समुद्री तट पर एक दुर्लभ लॉबस्टर लगा, जिसका रंग ‘कॉटन कैंडी’ (Cotton Candy Lobster) जैसा था। आमतौर पर लॉबस्टर या झींगा मछली का रंग लाल होता है, लेकिन ये बेहद ही अलग और दुर्लभ रंगों में मिला है। 

    यह घटना महत्वपूर्ण इसलिए हैं, क्योंकि जब कोई मछुआरा 10 करोड़ मछलियां पकड़ता है तो एक बार उसे यह नीले रंग का कॉटन कैंडी लॉब्स्टर मिलता है। अमेरिकी राज्य मेन को रंगीन लॉबस्टर प्रजातियों के लिए जाना जाता है। यहां नीले लॉबस्टर भी पाए जाते हैं जिनके मिलने की संभावना मेन लॉबस्टर मेन्स कम्युनिटी एलायंस के मुताबिक, 2 मिलियन में से एक होती है। वहीं कम्युनिटी के अनुसार, पीले लॉबस्टर 30 मिलियन में से एक पाए जाते हैं। 

    लॉब्स्टर एक फेमस सी-फूड है, जिसे बहुत से लोग खाना पसंद करते हैं। गेट मायन लॉब्स्टर नाम की सी-फूड कंपनी के सीईओ मार्क मरेल के मुताबिक, मायन की खाड़ी (Gulf of Maine) में स्थित कैस्को बे (Casco Bay) में मछुआरे बिल कॉपरस्मिथ ने इस दुर्लभ कॉटन कैंडी लॉब्स्टर के हाथ लगा था। जिन्होंने उसका नाम अपनी पोती के नाम पर हैडी रखा। वहीं नेशनल जियोग्राफिक की मानें तो यह जीव हर चार से पांच साल में एक बार पकड़ में आता है।

    इस दुर्लभ कॉटन कैंडी लॉब्स्टर को किसी के खाने के लिए परोसा नहीं गया और न ही कभी परोसा जाएगा। कंपनी ने कहा है कि, वे इस दुर्लभ लॉबस्टर को किसी के लिए न पकाएंगे या न ही बेचेंगे। बल्कि इसके बजाय वे इसे एक स्थायी और सुरक्षित घर देने के लिए स्थानीय समुद्री संगठनों के साथ काम करेंगे। जिसका मतलब है कि यह कॉटन कैंडी लॉब्स्टर को सुरक्षित जगह पर रखा जाएगा, क्योंकि आज तक यह किसी को पता नहीं है कि इस तरह के लॉबस्टर की संख्या कितनी है।