viral-video-of-guinness-world-records-iranian-man-balance-85-spoons-breaking-records

अबुफज़ल साबेर मोख़्तारी ईरान के करज में रहने वाला है।

    नई दिल्ली, अक्सर सोशल मीडिया (Social Media) पर कुछ ऐसे वीडियो वायरल हो जाते है, जिसे देख आपको आपकी आखों पर यकीन नहीं होता। हाल ही में सोशल मीडिया पर ऐसा ही एक वीडियो वायरल (Viral Video) हो रहा है। ईरान में रहने वाले एक शख्स ने अपनी शरीर पर दुनिया में सबसे ज्यादा चम्मचें बैलेंस करने का (most spoons balanced on the body) गिनीज़ रिकॉर्ड (Guinness World Records) बनाया है। 

    गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Records) के इंस्टाग्राम पेज पर इस शख्स का वीडियो शेयर किया गया है। 50 साल के इस शख्स का नाम अबुफज़ल साबेर मोख़्तारी है। अबुफज़ल साबेर मोख़्तारी ईरान के करज में रहने वाला है। अबुफज़ल साबेर मोख़्तारी ने अपने शरीर पर दुनिया में सबसे ज्यादा चम्मचें बैलेंस करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। इस वीडियो में उनके शरीर पर एक-एक कर चम्मच रखीं जा रही हैं। अबुफ़जल इन चम्मचों को ऐसे बैलेंस करते हैं जैसे उनके शरीर में कोई चुंबक लगा हो।  बता दें कि, अबुफज़ल साबेर मोख़्तारी को ईरान का ‘मैग्नेट मैन’ भी कहा जाता है। 

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Guinness World Records (@guinnessworldrecords)

    मोख़्तारी ने अपने अजीबोगरीब रिकॉर्ड के बारे में बताते हुए कहा,”जब मैं बच्चा था तब मुझे एक दिन अचानक अपने इस टैलेंट का पता चला। इसके बाद मैंने सालों से इसका अभ्यास किया। लेकिन सालों के अभ्यास और प्रयास के बाद मैं अपने इस टैलेंट को और मज़बूत करने में सफल रहा और आज जहां हूं वहां पहुंच पाया। “

    बता दें कि, अबुफज़ल ने तीसरे कोशिश में यह वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। इससे पहले शरीर पर सबसे ज्यादा चम्मचें बैलेंस करने का रिकॉर्ड स्पेन के मार्कोज़ रुईज़ सेबैलोज़ के नाम था। उन्होंने 64 चम्मचों का अपने शरीर पर बैलेंस किया था।  

    गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की टीम से बात करते हुए मोख्तारी ने बताया कि, ‘उनके पास ऐसी क्षमता है, जिससे वो अपने शरीर की ऊर्जा को किसी भी चीज़ में ट्रांसफर कर सकते हैं जिससे वो उनके शरीर पर चिपक जाती है।’

    अबुफज़ल ने आगे कहा कि “मैं किसी भी वस्तु में अपने शरीर की एनर्जी को ट्रांसफर कर देता हूं, जब कि मैं उसे छू सकता हूं और महसूस कर सकता हूं। मैं फिर उस चीज़ पर जितना हो सके उतना ध्यान केंद्रित करता हूं। और इसी तरह मैं यह कारनामा कर पाता हूं।”