सुशिक्षित बेरोजगारों को प्रतिमाह 1000 रूपये भत्ता मिलें – विधायक दादाराव केचे

आर्वी. विधानसभा क्षेत्र के विधायक दादाराव केचे ने बढती बेरोजगारी के कारण चिंता व्यक्त की है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उपमुख्यमंत्री तथा वित्त मंत्री अजित पवार ने महाराष्ट्र के सुशिक्षित बेरोजगारों को प्रतिमाह 1000 रूपये बेरोजगार भत्ता देने की मांग ज्ञापन द्वारा की है.राज्य के अनेक सुशिक्षितों को नौकरी न मिलने से उन्हें मानसिक परेशानी हो रही है व स्वयं का उदर निर्वाह कैसे करें? ऐसा प्रश्न उपस्थित हुआ है. मां बाप ने अपने बच्चों को पढाया लिखाया. पाल्य के शिक्षा के लिए सोना व जमीन गिरवी रख पाल्य के शिक्षा के लिए पैसे मुहैया कराए. तांकि वे अपने पैरों पर खडे होकर अपना व दूसरें का जीवनयापन कर सके व अच्छा आदमी बने. अनेकों ने पदवी, पदविका व अन्य अभ्यासक्रम पूर्ण किए. इसी के तहत सरकारी, निमसरकारी नौकरी के लिए प्रयास किए परंतु सुशिक्षितों को सफलता नही मिली. इसलिए उनमें निराशा आई है. 

विधायक दादाराव केचे ने ज्ञापन द्वारा बताया कि राज्य के सुशिक्षित बेरोजगार युवकों की संख्या व उपलब्ध नौकरी के अवसरों में भारी अंतर है. इसलिए शिक्षा प्रणाली में बदलाव कर स्वयं रोजगार निर्माण कर अन्यों को रोजगार देनेबाबत शिक्षा क्षेत्र में बदलाव नही करेंगे तब तक परिस्थिति और बिकट होगी. राज्य के सुशिक्षित बेरोजगारों को निराशा ना हो तथा विविध विभागों के पद का आवेदन करने के लिए सुशिक्षित बेरोजगारों को प्रतिमाह 1000 रूपये बेरोजगार भत्ता देने पर नौकरी संबंधित आवेदन व अन्य कामों के लिए किसी से पैसे नही मांगने पडेंगे. इसलिए सरकार ने गंभीरता से विचार कर 1000 रूपये सुशिक्षित बेरोजगार भत्ता शुरू करने की मांग विधायक दादाराव केचे ने ज्ञापन द्वारा की है.