Prerna Deshbhratar

    वर्धा. स्थानीय एमआईडीसी में अनेक प्लाट की लीज समाप्त हो गई है, जहां अब तक किसी भी प्रकार का उद्योग शुरू नहीं हुआ़  परिणामवश नये उद्योजकों को जमीन वितरित करने की मांग एमआईडीसी इंडस्ट्रीयलिस्ट एसोसिएशन की ओर से जिला उद्योग समिति की बैठक में की गई थी़  इस पर जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारी को आदेश देते हुए तत्काल अमल करने के आदेश दिए.   

    एमआईडीसी परिसर में कई उद्योजकों ने जमीन प्राप्त करने के बावजूद उद्योग शुरू नहीं किए. उनके द्वारा निर्माण कार्य तक नहीं किया गया़  कइयों की लीज भी समाप्त हो गई है़  कई उद्योजक ऐसे है उन्हें जमीन नहीं मिल रही है़  परिणामवश ऐसी जमीनें एमआईडीसी ने वापस लेने की जरूरत है़  जो उद्योग के लिए जमीन ढूंढ रहे है, उन्हें प्रदान किए जाने के निर्देश जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारी को दिए है. 

    जरूरतमंद को उपलब्ध कराएं जमीन 

    उसी प्रकार जिले के उद्योग में स्थानिकों को रोजगार मिल रहा है या नहीं इसकी जानकारी प्राप्त करें. 5 वर्ष से उद्योजकों को जमीन देकर भी एमआईडीसी की ओर से वहां रास्ते का निर्माणकार्य नहीं किया़  वहां बिजली सेवा भी उपलब्ध नहीं की गई, जिससे कुछ उद्योजक उद्योत शुरू नहीं कर सके है, जिससे एमआईडीसी को तत्काल पूर्ण करना चाहिए. यह मांग एमआईडीसी इंडस्ट्रीयलिस्ट एसो़  के अध्यक्ष प्रवीण हिवरे ने सभा में की. 

    सड़क, पानी, बिजली की सुविधा दें

    एमआईडीसी की जमीन पर रास्ते, पानी, विद्युत व्यवस्था तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश जिलाधिकारी प्रेरणा देशभ्रतार ने दिए. संतुलन बनाए रखने के लिए उद्योजक परिसर में बड़ी संख्या में पौधारोपण करने का सुझाव दिया गया़  सभा में समिति के सदस्य सचिव जिला उद्योग केंद्र के महाव्यवस्थापक शिवकुमार मुद्दमवार, वर्धा एमआईडीसी इंडस्ट्रीयलिस्ट एसो़  के अध्यक्ष प्रवीण हिवरे, एमआईडीसी के विभागीय प्रादेशिक व्यवस्थापक एनआर बिजवे, उपअभियंता व्यास, जिला सरकारी कामगार अधिकारी केएम भगत, विद्युत विभाग के कार्यकारी अभियंता संजय वाकडे, नगर रचनाकार विभाग की सहायक संचालक पीपी सोनारे उपस्थित थे.