Post-monsoon rains raise concern for paddy farmers in Maharashtra
File Photo

  • 2 लाख किसानों के दस्तखत का निवेदन भेजा जाएगा

वाशिम. केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कानून किसान विरोधी है. इसका लाभ कंपनी व व्यापारियों को ही होगा, यह विचार राज्य के पूर्व कांग्रेसाध्यक्ष माणिकराव ठाकरे ने प्रकट किए. वे जिप सभापति चक्रधर गोटे के कक्ष में आयोजित पत्र परिषद में बोल रहे थे़  इस अवसर पर जिप अध्यक्ष चंद्रकांत ठाकरे, कांग्रेस कमेटी के जिला अध्यक्ष एड. दिलीपराव सरनाईक, सभापति चक्रधर गोटे, प्रा़ संतोष दिवटे, एड.पी़ पी़ अंभोरे, महादेव सोलंके, शंकरराव वानखेडे तथा अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे़.

माणिकराव ठाकरे ने कहा कि नये नियमों के अनुसार कंपनी, व्यापारियों को ही लाभ देने का सरकार का षडयंत्र है. यह किसानों के हाथों से व्यवस्था निकालने का प्रयास है़  किसानों को जागृत करने के लिए कांग्रेस पार्टी की ओर से राज्य में जनजागृति मुहिम चलायी जा रही है़  इस के तहत वाशिम जिले से 2 लाख किसानों के दस्तखत लेकर एक निवेदन प्रदेश कांग्रेस की ओर भेजा जाएगा़.

यह आक्रोश निवेदन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, सोनिया गांधी, राहुल गांधी तक पहुंचाएंगे व यह किसान विरोधी कानून रद्द करने के लिए उनके नेतृत्व में राष्ट्रपति को निवेदन दिया जाएगा. यह जानकारी माणिकराव ठाकरे ने दी. उन्होंने कहा कि केंद्र ने कृषि उपज व्यापार वाणिज्य विधेयक 2020, कृषि कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार विधेयक 2020 व आवश्यक वस्तु विधेयक 1955 सुधारित यह तीन कानून पारित किए है़  इन बिलों का पूरे देश के किसानों ने विरोध किया है.

कृषि माल की केंद्रीय कृषि मूल्य आयोग द्वारा  निकाले गए आधारभूत एमएससी मूल्य से कम भाव से खरीदी करने पर कानूनन कार्रवाई की जाएगी. यह उपज व्यापार वाणिज्य विधेयक में समाविष्ट करने की हमारी मुख्य मांग है़  इस संदर्भ किसानों को जागृत होने की आवश्यकता है. कृषि उपज बाजार समिति यह व्यवस्था टूटने की संभावना नजर आ रही है़  कांग्रेस पार्टी किसानों के साथ है़  किसान हित के लिए कांग्रेस व्दारा किए जानेवाले आंदोलन में किसानों ने शामिल होने का आहवान किया है.