वंचित बहुजन आघाडी व बागियो की उम्मीदवारी से   प्रस्थापितो का समिकरण गडबडाने की संभावना

वाशिम. जिले के वाशिम ,कारंजा व रिसोड इन तीनो विधानसभा चुनाव क्षेत्रो में विविध राजनितिक पार्टियों में इच्छुको को अपने अपने पार्टी से तिकीट नही मिलने के कारण नाराज हुए कुछ इच्छुको नें बागियों के रुप

वाशिम. जिले के वाशिम ,कारंजा व रिसोड इन तीनो विधानसभा चुनाव क्षेत्रो में विविध राजनितिक पार्टियों में इच्छुको को अपने अपने पार्टी से तिकीट नही मिलने के कारण नाराज हुए कुछ इच्छुको नें बागियों के रुप मे चुनाव मैदान मे उतरने से व उसी प्रकार से इस बार वंचित बहुजन आघाडी व्दारा अपने प्रत्याशी चुनाव मे उतारने से प्रस्थापितो का समिकरण गडबडाने की संभावना नर्मिाण हो गई है़ वाशिम विधानसभा चुनाव क्षेत्र मे भाजपा से वद्यिमान विधायक लखन मलिक को फीर प्रत्याशी बनाया गया़ लेकीन यहा पर भाजपा सेना युती होने के बाद भी शिवसेना के निलेश पेंढारकर ने बगावत करके नर्दिलीय के रुप मे अपना नामांकन पत्र दाखिल किया है़ युती ,आघाडी होने के बाद बगावत नही होने का भले ही पक्ष श्रेष्ठी व्दारा बताया जा रहा था़ लेकीन प्रत्यक्षता मे उम्मीदवारी घोषित होने के बाद अनेक इच्छुक उम्मीदवार तिकीट नही मिलने से नाखुश हो गए़.

वाशिम मे कांग्रेस की ओर से इस बार नया चेहरा रजनी राठोड को उम्मीदवारी दी गई़ जिस से कांग्रेस के पुराने अनेक पदधिकारी व कार्यकर्ता ओ की नाराजगी सामने आयी़ व कांग्रेस के पूर्व विधायक सुरेश इंगले ने बगावत करके नर्दिलीय के रुप मे नामांकन पत्र दाखिल कर ही दिया़  वंचित बहुजन आघाडी के डा. सध्दिार्थ देवले ने चुनाव मैदान मे उतरने से अनेक नाराज ,नाखुश उनके साथ जाने की चर्चा से यहा पर प्रस्थापितो का समिकरण गडबडाने की संभावना सामने आ रही है़.

इसी प्रकार से रिसोड मतदार संघ मे कांग्रेस के जेष्ठ नेता अंनतराव देशमुख व भाजपा के पूर्व विधायक एड विजय जाधव ने नर्दिलीय प्रत्याशी के रुप मे नामांकन दाखिल किया है़ इन दोनो नेता ओं को कांग्रेस व भाजपा से उम्मीदवारी नही मिलने से उन्होने बगावत करके चुनाव मैदान मे उतरे है़ जिस से अब यहा पर कांग्रेस के अधिकृत उम्मीदवार अमित झनक व युती के शिवसेना के वश्विनाथ सानप का राजनितिक समिकरण गडबडाने की संभावना स्पष्ट हो गई है़.

जिले के तीसरे विधानसभा मतदार संघ कारंजा में भी कुछ ऐसी ही स्थिती होने से भाजपा के उम्मीदवार को अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए इसबार आसानी नही रहेगी़ यहा पर भाजपा की ओर से वद्यिमान विधायक राजेंद्र पाटणी ,राष्ट्रवादी से प्रकाशदादा डहाके ,बसपा के युसुफ पुंजानी चुनाव मैदान मे उतरे है़ कुछ महिने के पूर्व विधायक प्रकाशदादा डहाके  ने यह मतदार संघ शिवसेना को छुटने के शिवसेना से तिकीट मिलने  की उम्मीद से शिवसेना मे प्रवेश किया था़ लेकीन कारंजा मे युती मे यह मतदार संघ भाजपा को जाने से नाखुश प्रकाशदादा डहाके ने राष्ट्रवादी मे प्रवेश कर के उम्मीदवारी मिलायी़ व चुनाव मैदान उतरे है़.

इसी प्रकार से मो़ युसुफ पुंजानी ने भारिप की महत्वपूर्ण पदे छोडकर उम्मीदवारी से वंचित रहने से उन्होने बसपा से उम्मीदवारी मिलायी़ जिस से अब तीनो मतदार संघ मे ऐसी स्थिती से प्रस्थापितो का गणित कहा तक सई उतरेगा इस पर सभी का ध्यान लगा हुआ है़