117 गांवों में बाढ़ का खतरा

वाशिम. विगत एक सप्ताह से जिले में सभी दूर रुक-रुक कर जोरदार बारिश हो रही है. प्रशासन ने अतिवृष्टि के संकेत दिए हैं. अगर अतिवृष्टि होती है तो जिले के नदी, नाले में बाढ़ आने की संभावना है जिससे 117

वाशिम. विगत एक सप्ताह से जिले में सभी दूर रुक-रुक कर जोरदार बारिश हो रही है. प्रशासन ने अतिवृष्टि के संकेत दिए हैं. अगर अतिवृष्टि होती है तो जिले के नदी, नाले में बाढ़ आने की संभावना है जिससे 117 गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है.

प्रशासन ने नदी-नाले के किनारे व जलप्रकल्प के पास स्थित गांवों को सावधान रहने के संकेत दिए है़ं जिले में विगत 8 दिनों से कभी रिमझिम तो कभी धुआंधार बारिश शुरू है. बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है.

लबालब हुए नदी-नाले, प्रशासन तैयार
लगातार बारिश से नदी नाले लबालब हो गए है़ं जिले के कुछ गांवों में अतिवृष्टि होने से बाढ़ सदृ़ष्य स्थिति निर्माण हो गई है़ दरम्यान आनी- बानी के परिस्थिति में तुरंत मदद पंहुचाने के लिए प्रशासकीय यंत्रणा तैयार हो गई है़ विगत सप्ताह से शुरू बारिश ने गत तीनों से कहर बरपा दिया है़ अरुणावती नदी में बाढ़ आने से मानोरा शहर के साथ गांवों में पानी घुस गया है़ मंगरुलपीर व वाशिम तहसील के पैनगंगा नदी में बाढ़ आ गई है जिससे उमरा, तोंडगाव, देवठाणा, हिस्से बोराला, उकलीपेन, वारला, झोडगा, जयपुर, वाई , शिरपुटी, सावरगाव जिरे, कलंबा महाली, खंडाला, अडोली, सुकली शामिल है. वाशिम शहर के नाले में बाढ़ आने पर स्थानीय गोंदेश्वर क्षेत्र, बालाजी मंदिर के पीछे का क्षेत्र, जांबुरुण पंराडे,जांबुरुण भिते आदि गांव बाधित होने की संभावना है़ रिसोड तहसील में पैनगंगा नदी में बाढ़ आई तो पैन टालकी का बांध का पानी छोड़ने पर गोहगांव, महागांव, बालखेडा , धोडप बु़ भापुर, तांदुलवाडी, सरपखेडा, मोठेगांव, देवगांव, पेनबोरी, लिंगा, किनखेडा, मसलापेन, चिंचाबा पेन, पेडगाव, देवुलगांव बंडा, बेलखेडा, आसेगांव पेन, वरुड तोफा, रिठद, खडगी ढंगारे, बोरखेडी , पांचबा, गणेशपुर व उसी प्रकार से कांच नदी से मांगुलझनक, नेतनसा, गोवर्धन, दापुरी खु़ , वडजी आदि गांवे बाधित होने की संभावना व्यक्त की जा रही है.

अरुणावती नदी उफान पर
मानोरा तहसील के पुस नदी को बाढ़ आने पर वटफल, मेट्टा, रुई, गोस्ता, इंग्लवाडी तो दो दिन के सतत बारिश से अरुणावती नदी ने खतरे का स्तर पार किया था. जिससे मानोरा शहर के साथ कुछ गांवों में पानी घुस गया था तो फिर अभी अतिवृष्टि होने पर साखरडोह,जवला बु़ हिवरा बु कोंडोली, धामणी, कारखेडा, वरोली रामतीर्थ आदि गांवों को खतरा पंहुच सकता है़ तो नाले में बाढ़ आने पर सिंगडोह, सिंगनापुर गव्हा, विठोली, धानोरा, आसोला, आमगव्हाण, गिरोली आदि गांव बाधित होते है़ मंगरुलपीर तहसील के अडान नदी में बाढ़ आने पर शिवणीरोड, गणेशपुर, पिंपरी, मोझरी, धोत्रा, पिंपरखुटा आदि गांव बाधित होती है़ नाले में बाढ़ आने पर बोरव्हा, एकांबा, खडी, आमगव्हाण, पारवा, स्वासनी, मंगरुलपीर, चिखलागड, खापरदरी, जोगलदरी, कलंबा, सावरगाव, कोलंबी, दाभा, खेर्डा बु , खेर्डा खु़ ,गोंगरी, हिरंगी आदि गांव बाधित होते है़ कारंजा तहसील में बेबला नदी में बाढ़ आई तो राहटी, हिंगनवाडी, सिरसोली, कामठा, लाडेगाव, शिवनी बु़ , कुर्‍हाड, ब्राम्हणवाडा, हिवरा लाहे, मोरगव्हाण आदि गांवे बाधित होते है़ मालेगांव तहसील में निरगुणा, तानी, बेडकी , काटेपुर्णा नदी को बाढ़ आई तो सोनाला, भौरद, भिलदुर्ग, वाघी बु़ , पांगरी बंदी , कुरला, सुकांडा, दुबलवेल, वाडी रामराम आदि गांव बाधित होते है़ं मौसम विभाग व्दारा जिले में सभी ओर जोरदार बारिश होने के संकेत दिए़ जिससे नदी ,नाले किनारे रहनेवालों ने सावधान रहने का आह्वान किया गया है.