Outgoing district applications apply online: MLA Khodke

वाशिम. लोकउन्मुख, पारदर्शी गतिशील प्रशासन करने की दृष्टि से वाशिम जिला नियोजन समिति में आई-पीएएस ई वेब बेस प्रणाली द्वारा अमल होगा. आगामी आर्थिक वर्ष में 1 अप्रैल 2020 से जिले की विभागों का विविध

वाशिम. लोकउन्मुख, पारदर्शी गतिशील प्रशासन करने की दृष्टि से वाशिम जिला नियोजन समिति में आई-पीएएस ई वेब बेस प्रणाली द्वारा अमल होगा. आगामी आर्थिक वर्ष में 1 अप्रैल 2020 से जिले की विभागों का विविध विकास कामों के प्रस्ताव को मंजूरी, विभाग कि ओर से होनेवाली फाइलो की यात्रा, कामों की स्थिति एक क्लिक पर ही उपलब्ध होगी. जिला वार्षिक योजना, सांसद व विधायक स्थानीय विकास कार्यक्रम, पर्यटन विकास कार्यक्रम, अल्पसंख्यक विकास कार्यक्रम, मानव विकास कार्यक्रम आदि योजनाओं को प्रशासकीय मंजूरी, निधि वितरण व संनियंत्रण के काम, जिला नियोजन समिति कार्यालय द्वारा मंजूर किए जानेवाले कार्यों की जानकारी का काम्प्यूटरीकरण कर पेपरलेस किया जाएगा.

जिलास्तर पर जनप्रतिनिधि, कार्यान्वयीन विभाग इंटरनेट द्वारा अर्थात आई-पीएएस द्वारा जोड़ी जाएगी़ जिला नियोजन समिति कार्यालय से संनियंत्रण किए जानेवाले इस योजना की अद्यावत जानकारी एकत्रित रूप से राज्यस्तर पर उपलब्ध होगी. नियोजन विभाग से संबधित सभी काम एक क्लिक पर होने से सभी यंत्रणाओं के अनुसार 20 दिसंबर को वाशिम नियोजन भवन में सेवानिवृत्त उपायुक्त (नियोजन) के. एन. पाटिल ने प्रशिक्षण व मार्गदर्शन करते हुए उन्होंने बताया कि सन 2020-21 से केवल आई-पीएएस कम्प्यूटर प्रणाली द्वारा ही कामकाज करना बंधनकारक रहेगा. इस अवसर पर जिला पुलिस अधीक्षक वसंत परदेशी, जिला शल्य चिकीत्सक डा. अंबादास सोनटक्के, जिला नियोजन अधिकारी भारत वायाल, जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा.अविनाश आहेर, शक्षिणाधिकारी (प्राथमिक) अंबादास मानकर, शक्षिणाधिकारी(माध्यमिक) तानाजी नरले के साथ जिले के विविध विभाग के अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे़.

– जिले का स्वतंत्र पोर्टल

जिला नियोजन समिति कार्यालय के टपालों का व्यवस्थापन, कार्यों के प्रस्ताव, अंदाजपत्रक प्राप्त करना, कार्यों को प्रशासकीय मंजूरी देना, कार्य की निधि वितरण करना और कार्य पूर्ण होने तक अद्यावत जानकारी आदि का समावेश आई-पीएएस कम्प्यूटर प्रणाली में किया गया है़ प्रत्येक जिले के लिए स्वतंत्र पोर्टल विकसीत किया जानेवाला है़ जिससे जिले का कामकाज संगणीकृत होकर सुलभ, लोक उन्मुख, पारदर्शी व गतिशील प्रशासन होने के लिए मदद होगी़.

-क्षेत्रीय अधिकारी एप द्वारा करेंगे कार्यों के फोटो अपलोड

जिला नियोजन अधिकारी भारत वायाल ने आई-पीएएस प्रणाली संदर्भ में जानकारी देते हुए कहा कि, प्रत्येक कार्यान्वयीन विभाग अधिकारियों को व उनके क्षेत्रीय अधिकारियों को आई-पीएएस मोबाइल एप द्वारा शुरू कार्यों के अपडेट फोटो जीओ टॅगिंग सहित अपलोड करना है़ इन कार्यों की प्रगति जिलाधिकारी उनके कार्यालय में देख सकेंगे़ इसी के साथ कार्य पूर्णत्व की ओर के फोटो आई-पास पर प्रस्तुत करने के बाद ही संबंधित विभाग को जिला नियोजन समिति निधि वितरित करेगी़.