जिले में सीता फल प्रक्रिया उद्योग की आवश्यकता

वाशिम. सीता फल महासंघ व कृषि विभाग की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय परिसर के नियोजन भवन में राज्य स्तरीय सीता फल परिषद का आयोजन किया गया. इस अवसर पर सीता फल रोपण, प्रक्रिया उद्योग के संदर्भ में तकनीकी

वाशिम. सीता फल महासंघ व कृषि विभाग की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय परिसर के नियोजन भवन में राज्य स्तरीय सीता फल परिषद का आयोजन किया गया. इस अवसर पर सीता फल रोपण, प्रक्रिया उद्योग के संदर्भ में तकनीकी मार्गदर्शन किया गया़ इसी तरह जिले में सीता फल रोपण वृध्दि के संदर्भ में चर्चा की गई. अध्यक्षता जि.प. अध्यक्ष चंद्रकांत ठाकरे ने की. जि.प. अध्यक्ष चंद्रकांत ठाकरे ने कहा कि जिले में सीता फल रोपण बढ़ाने की आवश्यकता है़.

इसी तरह सीता फल प्रक्रिया उद्योग निर्माण करना भी आवश्यक है़ इसके लिए किसानों ने पहल कर प्रक्रिया उद्योग शुरू कर खेती व उद्योग से अच्छी आमदनी मिलना संभव होगा़ विधायक पाटणी ने बताया कि, सीता फल महासंघ ने सीता फल रोपण बढाने के साथ प्रक्रिया उद्योग निर्मिति सहित बाजारपेठ विकसित करने के लिए प्रयास होने चाहिए़

इस अवसर पर विधायक राजेंद्र पाटणी, विधायक अमित झनक, जिलाधिकारी हृषिकेश मोडक, अमरावती कृषि सह संचालक सुभाष नागरे, निवासी उप जिलाधिकारी शैलेश हिंगे, जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार, सीता फल महासंघ के अध्यक्ष श्याम गट्टाणी, उपाध्यक्ष एकनाथ आगे, सचिव अनिल बोंडे, कोषाध्यक्ष राजेंद्र पाठक प्रमुखता से उपस्थित थे़

ले के किसानों को मिलेगा लाभ
जिले के किसानों को समृद्धि महामार्ग से मुंबई, औरंगाबाद व नागपुर जैसे बाजारपेठ में अपना माल भेजा जा सकता है़ जिस से सीता फल पर आधारित उत्पादनों को इन बाजारपेठ में अच्छे दाम मिलकर किसानों का लाभ होगा़ विधायक झनक ने भी समयोचित विचार रखे. जिलाधिकारी हृषिकेश मोडक ने बताया कि, सीता फल परिषद से जिले के किसानों को सीता फल रोपण की प्रेरणा मिलेगी.

इसके लिए जिला प्रशासन किसानो को सर्वोतोपरी सहकार्य करेगा. राज्य स्तरीय कार्यशाला में डा.गोविंद मुंढे (शास्त्रज्ञ), डा.उज्जल राऊत, प्रा.प्रमोद बकाने, डा.रवद्रिं काले, जिला अधक्षिक कृषि अधिकारी तोटावार आदि ने सीता फल फसल व प्रक्रिया उद्योग के संदर्भ में मार्गदर्शन किया.

.