भारत, जॉर्जिया ने संबंधों को मजबूत करने के लिए मिलकर काम करने पर सहमति जताई

    तबिलिसी: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को जॉर्जिया के प्रधानमंत्री इराकली गैरीबाशविली समेत देश के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने पर व्यापक चर्चा की। उन्होंने जॉर्जिया की कंपनियों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया।  जयशंकर जॉर्जिया के दो दिन के दौरे पर हैं। यह पूर्वी यूरोप और पश्चिमी एशिया के बीच स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण देश है। 

    बैठक के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में मीडिया को संबोधित करते हुए जयशंकर ने कोविड-19 महामारी के दौरान भारतीय छात्रों के घर आने और पढ़ाई के लिए जॉर्जिया लौटने में सहयोग के लिए गैरीबाशविली का शुक्रिया अदा किया। जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘‘हमारे द्विपक्षीय संबंधों पर व्यापक चर्चा के लिए प्रधानमंत्री गैरीबाशविली का आभार। इस बात पर सहमति बनी कि हमें इसकी अपार संभावनाओं को तलाशने की जरूरत है।”

    उन्होंने अपने बयान में कहा, ‘‘हम निवेश और व्यापार पर मिलकर काम करने का बहुत स्वागत करेंगे। बदले में मैं यह भी उल्लेख करुंगा कि भारत में आज हमारे पास और अधिक विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए नयी परियोजनाएं और योजनाएं हैं। हमें उम्मीद है कि एशिया की ओर देख रहीं जार्जियाई कंपनियां भी इस बारे में विचार कर सकती हैं।”

    विदेश मंत्री ने राष्ट्रपति सालोमे जूराबिचविली से भी मुलाकात की और द्विपक्षीय सहयोग, संपर्क तथा अफगानिस्तान में प्रगति पर चर्चा की। जयशंकर ने भारत के संबंधों के लिए राष्ट्रपति के मजबूत सहयोग की सराहना की। इससे पहले जयशंकर ने जॉर्जिया के उप प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री डेविड जाल्केलियानी से मुलाकात की और द्विपक्षीय आर्थिक सहयोग, व्यापार तथा संपर्क के विषयों पर उनसे चर्चा की।

    जयशंकर ने जाल्केलियानी को कारोबारियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ भारत आने का न्योता भी दिया। उन्होंने कहा, ‘‘हमने आर्थिक सहयोग, पर्यटन, व्यापार और संपर्क के विषयों पर चर्चा की। हमारे संबंध अच्छे हैं। जॉर्जिया में कुछ बड़ी भारतीय परियोजनाएं, विद्युत परियोजनाएं और इस्पात परियोजनाएं हैं।”

    जयशंकर ने कहा, ‘‘अनेक भारतीय पर्यटक यहां आते हैं। जॉर्जिया में करीब 8,000 भारतीय छात्र हैं। लेकिन हमें लगता है कि हम हर क्षेत्र में और ज्यादा काम कर सकते हैं। आज हम इस बात के लिए सहमत हुए कि हम संबंधों को बढ़ाने के लिए मिलकर काम करेंगे।” उन्होंने कहा, ‘‘मैंने उप प्रधानमंत्री को कारोबारी प्रतिनिधिमंडल के साथ भारत आने का न्योता दिया। भारत में लोगों को जॉर्जिया के बारे में, खासतौर पर व्यापार सुगमता की उनकी उच्च रैंकिंग के बारे में पता होना चाहिए।”

    जयशंकर ने उम्मीद जताई कि जॉर्जिया की उनकी यात्रा संबंधों का नया अध्याय शुरू करेगी। वह इस देश की यात्रा करने वाले पहले भारतीय विदेश मंत्री हैं।(एजेंसी)