Cement companies will start production in phases from April 20, negotiating with the administration for permission
File Photo

  • देरकर ने एसीसी सिमेंट कंपनी को सौपा ज्ञापन

वणी. एसीसी सिमेंट कंपनी को लगनेवाला कच्चा माल तहसील के गोवारी स्थित पत्थर खदान से आपुर्ति होता है. लेकिन 14 तथा 12 पहियों वाले वाहन से यहा की पगदंडी से ओव्हरलोड यातायात शुरू है. यह यातायात गंभीर, जानलेवा और गैरकानुनी है. यह ओव्हरलोड यातायात तुरंत बंद करने की मांग संजय देरकर ने एसीसी सिमेंट कंपनी प्रबंधन की ओर की है.

चंद्रपुर जिले के नकोडा में एसीसी चांदा सिमेंट वर्क्स यह कारखाना है. इसके लिए लगनेवाला कच्चा माल गत 30 वर्ष से गोवारी की पत्थर खदान से आपुर्ति हो रहा है. बडे बडे वाहनों के माध्यम से ओव्हरलोड यातायात हमेशासे होती आ रही है. जिससे रास्तों की काफी दुर्दशा हुई है. पांदण रास्तों से होनेवाली यातायात से जान भी खतरे में आ सकती है.

शिकायत का कोई असर नही

इस क्षेत्र में शिंदोला यह बडा मार्केट है. अस्पताल, बैंक, व्यापार की जगह होने से गोवारी, बोरी, ढाकोरी, निंबाला, देवूरवाडा, मूर्ती, कुरई और आसपडौस के नागरीक, निराधार,वयोवृध्द महिला पुरूष किसान यहा आते है. दुपहिया से इसी मार्ग से यातायात होती है. इस समय जान हथेली पर लेकर यात्रा करनी पडती है. इसलिए कंपनी प्रशासन शीघ्र पगदंडी से होनेवाली यातायात रोके ऐसी मांग की गई. शिंदोला गाव से होनेवाली यातायात की कई बार नागरीकों ने सिमेंट कंपनी की ओर शिकिायत की. लेकिन कंपनी प्रशासन ने इसे गंभीरता से नही लिया. 

प्रादेशिक परिवहन विभाग की अनदेखी

सिमेंट कंपनी के लिए बडे बडे वाहनों से होनेवाली ओव्हरलोड यातायात की ओर प्रादेशीक परिवहन विभाग का ध्यान नही है. इस ओव्हरलोड यातायात से वाहन से गीरनेवाले बारीक पत्थर धुल बनकर यहा प्रदुषण बढा है. जिससे इस क्षेत्र की फसल भी प्रभावित हो रही है. फसल की उपज क्षमता भी कम होने का आरोप ज्ञापन में किया गया है. यह ओव्हरलोड यातायात शीघ्र बंद नही हुई तो  आंदोलन करने की चेतावनी ज्ञापन में दी गई है.