MNS Morcha, Electricity Bills

  • जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

यवतमाल. कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान सभी कामकाज ठप हो गए थे, जिससे छोटे-बड़े व्यवसाय से लेकर सभी उद्योगधंधे बंद थे. बंद के दौरान सभी नागरिक अपने घर में थे, उदरनिर्वाह के साधन ठप पड़ गए थे. ऐसे में आम आदमी बढ़े हुए बिजली के बिल का भुगतान कैसे करेगा. जिससे सरकार की नीति का विरोध दर्शाते हुए मनसे की ओर से स्थानीय तिलक स्मारक मंदिर से आज मोर्चा निकालकर प्रदर्शन किया. इस मोर्चे का नेतृत्व मनसे राज्य उपाध्यक्ष आनंद येम्बडवार, जिलाध्यक्ष देवा शिवरामवार, अनिल हमदापुरे ने किया.

रियायत देने और राहत प्रदान करने की मांग

कोरोना अवधि में कई लोगों को अपनी नौकरी खोनी पड़ी और कई उद्योग बंद हो गए. आम आदमी पूछ रहा है कि बढ़े हुए बिजली के बिल का भुगतान कैसे करें, पहले सरकार ने इस बिजली बिल पर विचार करने और आम जनता को राहत देने का वादा किया था और अब इसे बिल का भुगतान करना होगा, इस नीति का निषेध जताने के लिए आम जनता के साथ मोर्चा निकाला. सरकार के अन्यायकारक निर्णय के खिलाफ निषेध जताकर मनसे के कार्यकर्ताओं ने काला फीता लगाकर प्रदर्शन किया और नारेबाजी की. जिलाधिकारी कार्यालय में जिलाधिकारी को मनसे के शिष्टमंडल ने ज्ञापन सौंपा. लॉकडाउन दौरान के बिजली बिल में रियायत देने एवं जनता को राहत प्रदान करने की मांग की.

ज्ञापन सौंपते समय आनंदभाऊ येम्बडवार, जिलाध्यक्ष देवा शिवरामवार, मनविसे जिलाध्यक्ष अनिल हमदापुरे, अभय गडम, सादिक शेख, अमित बदनोरे, डेविड शहाणे, विकास पवार, नगरसेवक गजू भालेकर, शंकर वरघट, धनंजय त्र्यंबके आदि उपस्थित थे. मोर्चे में महिला आघाड़ी की जिलाध्यक्ष संगीता घोडमारे आदि समेत मनसे कार्यकर्ता उपस्थित थे.