Pusad NP, BJP, Shiv Sena

  • स्थायी समिति में भाजपा के तीन सदस्य
  • स्वास्थ्य विभाग एड. जाधव की ओर

पुसद. पुसद नगर पालिका की विषय समिति के चुनाव ने पूरे शहर के लोगों का ध्यान आकर्षित किया था. विषय समिति में मलाईदार खाता राकांपा को मिलेगा ऐसी आशा नगराध्यक्ष को थी, लेकिन नगर पालिका के 9 पार्षदों ने विषय समिति के चुनाव में पार्टी नेतृत्व पर अपनी नाराजगी जताकर अनुपस्थित थे. पार्षदों की अनुपस्थिति का लाभ भाजपा, शिवसेना को हुआ होकर जलापूर्ति सभापति पद राकांपा के बजाय शिवसेना को मिला है.

नगरपालिका में विभिन्न विभागों के सभापति के पद के लिए. विषय समिति का चुनाव नगर पालिका के हॉल में 13 जनवरी को दोपहर में हुआ था. नगरपालिका की वर्तमान कार्यकारी समिति का कार्यकाल 10 महीने के बाद समाप्त हो गया था, इसलिए विषय समिति के सभापति के पद के लिए चुनाव यहां आयोजित किया गया था.

राकांपा के 9 पार्षद रहे अनुपस्थित

नगर पालिका के 29 वार्डों के लिए अपना परचम लहराने के लिए पार्टियों ने अपनी ताकत लगाकर चुनाव मैदान में उतरे थे. नगरपालिका सत्ता स्थापित करने के लिए राकांपा सबसे बड़ी पार्टी साबित हुई. पुसद की जनता ने राकांपा पर भरोसा जताते हुए राकांपा के पार्षदों को चुनकर भी लाया. राकांपा के 9 पार्षदों ने विषय समिति के चुनाव को अनुपस्थित रहें. हालांकि, शिवसेना और बीजेपी को इसका फायदा मिला.

नगरसेवक हुए थे नाराज

नगर पालिका के 29 वार्डों में 11 एनसीपी, कांग्रेस 3, भाजपा के 10 और 3 शिवसेना नगरसेवक वर्तमान में नगर पालिका में सदस्य हैं. दूसरी ओर जाति की वैधता प्रमाणपत्र न होने के कारण एक शिवसेना और एक राकांपा पार्षद को रद्द कर दिया गया है. नगर पालिका के विषय समिति के चुनाव में राकांपा पार्टी के निशांत ब्यास, पंचशीला कांबले, अर्जुन लोखंडे, संगीता देशमुख, रेखा चव्हाण, राजू सालूंके, दीपाली धुले, जबकि कांग्रेस के शाकिब शाह और से. रुकिया बेगम मुजफ्रुद‍्दीन समिति चुनावों में अनुपस्थित रहे.