13 मार्च : ऊधम सिंह ने ओ डायर की जान लेकर जलियांवाला बाग का बदला लिया

    नयी दिल्ली. देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराने के लिए सैकड़ों युवाओं ने जान की बाजी लगा दी थी। ऐसे ही एक महान क्रांतिकारी थे पंजाब में जन्मे भारत माता के अमर सपूत ऊधम सिंह (Udham Singh) ऊधम सिंह पर अमृतसर के जलियांवाला बाग नरसंहार (Jallianwala Bagh Massacre) का गहरा असर पड़ा और उन्होंने हर कीमत पर इसका बदला लेने का प्रण लिया। वह इस घटना का बदला लेने के लिए लंदन तक गए और वहां जाकर पंजाब के तत्कालीन लेफ्टिनेंट गर्वनर माइकल ओ डायर (Michael O’Dwyer) की हत्या कर दी।

    आजादी के इस दीवाने ने निहत्थे हिंदुस्तानियों की मौत का फरमान जारी करने वाले ओ डायर पर 13 मार्च,1940 को ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर उसकी जान ले ली और बहादुरी की एक मिसाल कायम की। देश दुनिया के इतिहास में 13 मार्च की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:

    1781: खगोलशास्त्री विलियम हर्शेल ने यूरेनस ग्रह का पता लगाया।

    1800: मराठा साम्राज्य को अपनी योग्यता से शिखर पर पहुंचाने वाले राजनेता नाना फडणवीस का निधन।

    1878 : भारतीय भाषाओं के लिए देसी प्रेस अधिनियम :वर्नाकुलर प्रेस एक्ट: पारित किया। इसके अगले ही दिन अमृत बाजार पत्रिका को अंग्रेजी पत्र के रूप में प्रकाशित किया जाने लगा।

    1881: रूसी शासक अलेक्जेंडर द्वितीय की हत्या।

    1892 : बॉम्बे-तांसा वाटर वर्क्स को खोला गया।

    1940 : पंजाब के पूर्व गवर्नर माइकल ओ डायर को लंदन में उधम सिंह उर्फ मोहम्मद सिंह आजाद ने गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया।

    इसे 1919 के जलियांवाला बाग के नरसंहार के प्रतिशोध के तौर पर देखा गया।

    1956: न्यूजीलैंड ने टेस्ट क्रिकेट खेलने का दर्जा मिलने के 26 साल बाद अपनी पहली जीत हासिल की।

    1963 : विभिन्न खेलों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार प्रदान करने का ऐलान किया गया।

    1992: तुर्की में आये भूकंप से करीब 500 लोगों की मौत हो गई और हजारों लोग बेघर हो गए।

    1997: मदर टेरेसा की उत्तराधिकारी के रूप में सिस्टर निर्मला को मिशनरीज ऑफ चैरिटी के सुपीरियर जनरल के पद पर चुना गया।

    2004: भारतीय शास्त्रीय संगीत की महान विभूति प्रसिद्ध सितार वादक उस्ताद विलायत खां का निधन।

    2013: कैथोलिक चर्च के 266 वें पोप के रूप में पोप फ्रांसिस का चयन