today-in-history-October 12-Pervez Musharraf overthrow Nawaz Sharif's government

12 अक्टूबर का दिन पड़ोसी देश के इतिहास में सेना प्रमुख के हाथों सरकार के तख्ता पलट के दिन के तौर पर दर्ज है।

नयी दिल्ली. पाकिस्तान में सेना और सरकार के बीच खट्टे मीठे रिश्तों का सिलसिला बहुत पुराना है यही वजह है कि वहां लोकतांत्रिक, स्थिर और स्थायी सरकार जैसे शब्द कम ही सुनाई देते हैं। 12 अक्टूबर का दिन पड़ोसी देश के इतिहास में सेना प्रमुख के हाथों सरकार के तख्ता पलट के दिन के तौर पर दर्ज है।

दरअसल 1999 में इसी दिन देश के तत्कालीन सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलटकर शासन की बागडोर अपने हाथ में ले ली थी। इस रक्तविहीन क्रांति में नवाज पर श्रीलंका से आ रहे मुशर्रफ के विमान का अपहरण करने और आतंकवाद फैलाने का आरोप लगाने के बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया। बाद में उन्हें परिवार के 40 सदस्यों के साथ सऊदी अरब निर्वासित कर दिया गया। देश दुनिया के इतिहास में आज की तारीख में दर्ज अन्य प्रमुख घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:-

1492 : इटली के खोजकर्ता क्रिस्टोफर कोलंबस की ऐतिहासिक खोज यात्रा पर निकले तीन जहाजों में से एक पर सवार लोगों ने बहामा में वाटलिंग द्वीप देखा। इसे एक नयी दुनिया की खोज कहा गया।

1967 : राजनीतिज्ञ और सामाजिक सरोकारों से जुड़े नेता राम मनोहर लोहिया का निधन। उन्हें उनके नवाचारी विचारों के लिए याद किया जाता है। 

1999 : पाकिस्तान में परवेज मुशर्रफ ने रक्तविहीन क्रांति कर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलटा और सत्ता हथिया ली। 

1999 : संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या कोष के अनुमान के अनुसार आज ही वह दिन था जब दुनिया की आबादी ने छह अरब का आंकड़ा छू लिया।

2000 : यमन के बंदरगाह अदन में ईंधन भरने की तैयारी कर रहे अमेरिका के विध्वंसक पोत पर अल कायदा से जुड़े आत्मघाती उग्रवादियों ने हमला किया। 17 नाविकों की मौत, 39 घायल।

2001 : संयुक्त राष्ट्र और इसके महासचिव कोफी अन्नान को सदी का पहला नोबेल शांति सम्मान प्रदान किया गया।

2002 : बाली में क्लबों और बार को निशाना बनाकर किए गए तीन बम धमाकों में 202 लोगों की मौत। मरने वालों में स्थानीय युवा और पर्यटक शामिल।

2011 : भारत ने मानसून के मिजाज के अध्ययन के लिए एक उपग्रह सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया।

2018 : ओडिशा में ‘तितली’ चक्रवात के कारण भारी बारिश और बाढ़ से 60 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित। तीन जिलों में बचाव और राहत के लिए एनडीआरएफ और ओडीआरएएफ की तैनाती। (एजेंसी)