Caution: workers of Sevagram and Savangi hospitals also turned positive

 – कामगार व उद्योजक  चिंतित

औरंगाबाद. मार्च एंड से मई एंड तक एमआईडीसी क्षेत्र वालूज, चिकलथाना, शेन्द्रा, पैठण, रेलवे स्टेशन में  लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने के बाद करीब 90 प्रतिशत कंपनियों में उत्पादन शुरु हुआ. कंपनियों में काम शुरु होने के बाद वालूज एमआईडीसी क्षेत्र में स्थित दो कंपनियों में 20 से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाने के बाद कामगार, उद्योजक  चिंतित है. इधर, कंपनी के कामगारों, अधिकारियों व उद्योजकों  में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने को लेकर मसिआ, सीएमआईए, सीआईआई नामक औद्योगिक संगठनों द्वारा जनजागृति करने का काम युध्दस्तर पर जारी है.

क्षेत्र में खलबली मची 

एमआईडीसी वालूज में स्थित एक नामचीन कंपनी में 20 से अधिक कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद एमआईडीसी क्षेत्र में खलबली मची हुई है. औरंगाबाद में कोरोना संक्रमण कहर बरपा रहा है. सोमवार तक संक्रमित मरीजों का आंकड़ा साढ़े तीन हजार से अधिक पार कर चुका है. बीते दो दिनों में शहर व वालूज क्षेत्र में पौने तीन सौ के करीब संक्रमित मरीज पाए गए है.इधर, कोरोना कहर बरपाने से  एमआईडीसी क्षेत्रों में 40 से 50 प्रतिशत कामगारों पर ही उत्पादन जारी है. कामगार भी अपने स्वास्थ्य को लेकर अधिक सतर्कता बरत रहे हैं.

बड़े पैमाने पर जारी है जागृति

मसिआ संगठन के अध्यक्ष अभय हंचनाल ने बताया कि हमारे संगठन के माध्यम से औद्योगिक क्षेत्र में बड़े पैमाने पर जनजागृति कर रहे है. कामगारों को छोटे-छोटे ग्रुप बनाए. फिजीकल डिस्टेन्सिंग रखें. मास्क का नियमिति इस्तेमाल करें. दो शिफ्ट में गैप देकर काम करें. दिए हुए सूचना व नियमों का सख्ती से पालन करें. शरीर का तापमान व ऑक्सिजन की जांच नियमिति करते रहें. इस विषय को लेकर एक वीडियो तैयार कर हमने सभी उद्योजकों को भेजा है.

शहर से ही फैला एमआईडीसी वालूज में कोरोना संक्रमण

सीएमआईए के अध्यक्ष जीके संगेनेरिया ने कहा कि वालूज में कोरोना महामारी का फैलाव शहर से ही हुआ है. कंपनियों द्वारा कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए विशेष लक्ष्य केन्द्रीत किया जा रहा है. जिससे कंपनी में ही काम करनेवाले पॉजिटिव आये है, ऐसा कहना गलत होगा. संगनेरिया ने कहा कि वालूज क्षेत्र में भी आए दिन कोरोना संक्रमित मरीज पाए जा रहे है. वालूज परिसर  में घाटी अस्पताल की तरह एक भी सभी सुविधाओं से लैस अस्पताल नहीं है. सभी उद्योजक कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हर तरह के कदम उठा रहे  हैं. कामगार भी अपनी सुरक्षा को अधिक सतर्क है.

कंपनियों में हुई बड़े पैमाने पर जनजागृति

इधर, मसिआ के पूर्व अध्यक्ष व शहर के उद्योजक सुनील कीर्दक ने बताया कि  बीते एक माह से एमआईडीसी क्षेत्रों में उत्पादन शुरु हुआ है. एक माह में कंपनियों में बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने को लेकर जनजागृति की गई है. कंपनी के अधिकारी, कर्मचारी व  उद्योजक  कोरोना को मात  देने के लिए विशेष ध्यान दे रहे है. पहले कामगारों व कंपनी प्रशासन में डर था, परंतु अब डर दूर होकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लडकर काम करने की तैयारी कामगार, कर्मचारी व उद्योजकों ने की है.