trader will complain to the commissioner

    औरंगाबाद. प्लास्टिक की पाबंदी (Plastic Ban) पर अमलीजामा पहनाने के लिए औरंगाबाद महानगरपालिका प्रशासन (Aurangabad Municipal Corporation Administration) ने 30 प्रतिशत कमिशन पर पूर्व सैनिकों की एक टीम नागरी मित्र के नाम पर कार्यरत की है। इस दल द्वारा बीते कुछ दिनों से मनमानी करते हुए व्यापारियों से प्लास्टिक बंदी के नाम पर प्रताडि़त करने के कई मामले सामने आ रहे हैं।हाल ही में शहर के एक किराना व्यापारी (Grocery Trader) से उत्पादक कंपनी द्वारा पैकिंग के लिए इस्तेमाल की गई प्लास्टिक के नाम पर 5 हजार रुपए जुर्माना (Fine) वसूलने का मामला सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल (Viral) हुआ है। नागरी मित्र दल के इस मनमानी से शहर के व्यापारी त्रस्त हो चुके है। व्यापारियों ने जल्द ही मनपा कमिश्नर आस्तिक कुमार पांडेय से मुलाकात कर नागरी मित्र दल की शिकायत करेंगे।

    शहर के अंगुरीबाग के मार्केट में गणेश पगारिया का होलसेल किराना माल का शॉप है। इस शॉप में नागरी मित्र दल के दो कर्मियों ने पहुंचकर वहां पैकिंग में स्थित मुरमरा के पैकिंग के इस्तेमाल की गई प्लास्टिक की थैली  50 मायक्रो से कम होने का दावा कर किराना व्यापारी पगारिया से 5 हजार रुपए जुर्माना वसूला। पगागरिया का कहना था कि जिस प्लास्टिक के थैली में मुरमरा पैक था, उस पर कंपनी द्वारा 60 मायक्रो से अधिक मोटाई  वाली प्लास्टिक की थैली होने का प्रिंट है। व्यापारी पगारिया ने थैली की प्लास्टिक 50 मायक्रो से कम हैं, इसकी जांच मशीन द्वारा कर सर्टिफिकेट देने के लिए नागरी मित्र दल पर दबाव डाला। पगारिया का कहना था कि यह थैली 50 मायक्रो से कम होने का प्रमाणपत्र मुझे मनपा से मिला तो मैं उस कंपनी पर कानूनी कार्रवाई करुंगा।

     5 हजार रुपए जुर्माना वसूला

    इसके बावजूद नागरी मित्र दल के कर्मियों ने दादागिरी करते हुए व्यापारी से 5 हजार रुपए जुर्माना वसूला। जिससे परिसर के व्यापारियों में नागरी मित्र दल के कर्मियों के खिलाफ रोष है। ध्यान रहे कि सरकार के आदेश के तहत 50 मायक्रो से कम मोटाई वाले प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पाबंदी लगायी गई है। साथ ही इस्तेमाल करनेवालों को 5 हजार रुपए जुर्माना वसूलने का अधिकार महानगरपालिका, नगरपालिका को दिया गया है। इसके अंतर्गत कार्रवाई करने के लिए औरंगाबाद मनपा ने पूर्व सैनिकों की टीम नागरी मित्र दल के नाम पर कार्यरत की है। बीते कुछ दिनों से नागरी मित्र दल के कर्मियों ने दादागिरी करते हुए व्यापारियों को परेशान कर रखा है। जिससे व्यापारियों में नागरी मित्र दल के खिलाफ रोष है। व्यापारियों का एक शिष्टमंडल जल्द ही मनपा कमिश्नर से मुलाकात कर नागरी मित्र दल की मनमानी का शिकायत करेगा।