भंडारा जिले में 7 हजार से अधिक कर्मचारियों को मिलेगी कोविड टिका

भंडारा. कोविड के खिलाफ लंबे समय से प्रतीक्षित टीकाकरण अभियान को गति मिली है और भंडारा जिले के 7136 अधिकारियों और कर्मचारियों को पहले चरण में टीका लगाया जाएगा. ये सभी फ्रंटलाइन वर्कर हैं. जिलाधिकारी संदीप कदम ने टीकाकरण की समीक्षा की. बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनयकुमार मुन, जिला शल्य चिकित्सक प्रमोद खंडाते, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. प्रशांत उईके, डा. माधुरी माथुरकर व अधिकारी उपस्थित थे. 

भंडारा जिला स्वास्थ्य विभाग और एकात्मिक महिला व बाल विकास विभाग, जिला शल्य चिकित्सक व जिला स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा प्रमाणित निजी स्वास्थ्य कर्मचारियों के कोरोना टीकाकरण के लिए तैयारी तेजी से शुरू हो गयी है. इसके लिए मंगलवार को जिलाधिकारी के अध्यक्षता में विविध अधिकारी वर्ग का समावेश होनेवाले जिला कृति दल ( टॉस्क फोर्स ) की बैठक ली गयी. 

भंडारा जिले में 7,000 से अधिक कर्मचारियों को कोरोना टीका लगाया जाएगा. पहले चरण में, टीका स्वास्थ्य विभाग व महिला बाल विकास विभाग के कर्मचारियों को दिया जाएगा. टीका की पूर्व तैयारी जोरों से शुरू है. जिला स्वास्थ्य अधिकारी व जिला शल्य चिकित्सक स्तर पर से टीका की कार्यान्वित की जाएगी. भंडारा जिले के ग्रामीण अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, उनकेंद्र, अंगनवाडी कर्मचारी, आशा सेविका, जिला शल्य चिकित्सक, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय, स्वास्थ्य टीम, अधिकारी कर्मचारी ऐसे 58 संस्था का एकत्रीकरण कर प्राधान्य क्रम से पहिले चरण में टीका किया जाएगा. कोरोना समय में प्रत्यक्ष में काम करनेवाले कर्मचारी वर्ग को प्रथम यह टीका लगाया जाएगा. जिले के जिला स्वास्थ्य अधिकारी, जिला शल्य चिकित्सक, महिला बालविकास विभाग कर्मचारी 5796, चिखलामाईन अधिकारी व कर्मचारी 12 व पंजीयनकृत निजी स्वास्थ्य सेवा देनेवाले 1328 ऐसे कुल 7136 से अधिक अधिकारी, कर्मचारी को टीका देना अपेक्षीत है. 

स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट (Cowin पोर्टल पर डेटा अपलोड) पर टीकाकरण के लिए पंजीकृत होने वाले केवल अधिकारी ही इस टीकाकरण के लिए पात्र होंगे. यह टीकाकरण कुछ दिनों के अलावा दो बार कर्मचारियों को दिया जाएगा. कंपनी द्वारा शुरू में दिया गया वही वैक्सीन दूसरी बार दिया जाएगा. उन्हें अन्य कंपनियों द्वारा टीकाकरण नहीं किया जाएगा. जिले में मातृ एवं शिशु देखभाल अधिकारियों, चिकित्सा अधीक्षकों, निवासी चिकित्सा अधीक्षकों, तहसील स्वास्थ्य अधिकारियों आदि का राज्य स्तरीय प्रशिक्षण 14 दिसंबर 2020 और 15 दिसंबर 2020 को Google बैठक में आयोजित किया गया था. यह अधिकारी टीकाकरण कार्यान्वयन और नियोजन तंत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करेंगे. टीकाकरण के लिए सामग्री राज्य स्तर से प्राप्त की जाएगी और अगले सप्ताह प्रशिक्षण जिला, तहसील, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर आयोजित किया जाएगा.

कोरोना वैक्सीन को स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों (एचसीडब्ल्यू) को अधिमानतः दिया जाएगा और उनका पंजीकरण, फोटो आईडी अनिवार्य है. टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक वहां रहें. जब दूसरी खुराक का संदेश समर्थन लिंक के साथ मोबाइल पर आता है, तो दूसरी खुराक लेनी होती है. वैक्सीन नि: शुल्क दी जाएगी. प्रत्येक लाभार्थी को मोबाइल पर एक संदेश मिलेगा जिसके बाद एक टीकाकरण प्रमाणपत्र होगा लेकिन क्यूआर कोड के अनुसार मोबाइल पर एक संदेश आएगा. इसके लिए टीकाकरण के लिए जगह खोजने का काम चल रहा है. तहसीलवार स्थानों को खोजने के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है जहाँ कम से कम 100 लोगों को टीकाकरण के लिए रखा जा सकता है.

इन स्थानों पर दस्तों को तैनात किया जाएगा और टीकाकरण के बाद कुछ समय के लिए पंजीकरण, टीकाकरण, कर्मचारियों की निगरानी जैसी सुविधाएं स्थापित की जाएंगी. इसी तरह की समितियां तहसील के साथ-साथ जिला स्तर पर टास्क फोर्स में बनाई जाएंगी. जो टीकाकरण को लागू करेगा. प्रत्येक स्थान पर एक प्रतीक्षालय, टीकाकरण कक्ष और अवलोकन कक्ष होगा. प्रत्येक टीम में 4 टीकाकरण अधिकारी, 1 टीकाकार और एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता होंगे. यह जानकारी जिला स्वास्थ्य अधिकारी, जिला परिषद, भंडारा द्वारा दी गई.