bhandara

  • ट्रैफिक जाम की स्थिति में हुआ

भंडारा. भंडारा शहर के व्यस्ततम मेन रोड मैं भारी वाहन, कार, ऑटो आदि के आने पर जाने पर प्रतिबंध लगाए जाने से शहरवासियों की परेशानी में भारी वृद्धि हुई है. दूसरी ओर वाहन प्रतिबंध आदेश जारी करने का अधिकार किसे है ? इसको लेकर नगर परिषद एवं पुलिस यातायात विभाग के बीच अपरोक्ष रूप से बहस छिड़ गई है.

भंडारा शहर में पार्किंग की प्रमुख समस्या है सरकारी जमीन पर व्याप्त अतिक्रमण की वजह से वाहनों को पार करने के लिए कोई अधिकृत जगह नहीं है. इसके अलावा दुकानदारों द्वारा सामान को दुकान के बाहर सड़क तक लाने की प्रवृत्ति की वजह से सड़क में आवागमन के लिए बेहद कम जगह रह जाती है. यही कारण है कि भंडारा शहर के अधिकतर सड़कों की चौड़ाई समाधान कारक होने के बावजूद हर वक्त ट्रैफिक जाम की समस्या रहती है.

लगभग एक सप्ताह पूर्व

भंडारा नगर परिषद सीईओ द्वारा मेन रोड पर वाहन प्रतिबंध के संबंध में आदेश जारी किया गया. जिसके अनुसार गांधी चौक से लेकर बड़ा बाजार डाकघर चौराहे के दौरान भारी वाहन, कार, ऑटो आदि वाहनों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

नप द्वारा लगाए गए इस आदेश से शहर में बहुत छिड़ गई है कि गई क्या वाहन आवागमन प्रतिबंध जैसे आदेश जारी  करने का अधिकार नगर परिषद को है? या फिर पुलिस यातायात विभाग को? यद्यपि पुलिस यातायात विभाग ने इस संबंध में कोई अधिकृत लिखित आपत्ति दर्ज नहीं की है. लेकिन इस विभाग से संबंधित लोगों ने नाम प्रकाशित न करने की शर्त पर बताया कि शहर में यातायात के संबंध में योजना तैयार करने एवं उसे लागू करने का अधिकार पुलिस यातायात विभाग को है न कि नगर परिषद को.

उल्लेखनीय है कि गांधी चौक से डाकघर चौक तक की दूरी लगभग 1 किलोमीटर की है ऐसे में इस पूरे मार्ग पर दोनों तरफ से वाहन प्रतिबंध लगाने की वजह से जिनके पास कार जैसे वाहान है, उनके लिए भारी परेशानी खड़ी हुई है. यह परेशानी उन लोगों के लिए भी है, जो इस मेन रोड परिसर में रहते हैं  उन्हें आने और जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

वन वे लागू करें

इसके पूर्व तक दिन में व्यस्ततम समय के दौरान वनवे लागू रहता था. जिसमें कार, ऑटो जैसे वाहन गांधी चौक की तरफ से जा सकते थे. वहीं डाकघर चौक की तरफ से उन्हें आने के लिए अनुमति थी. लेकिन यह नई व्यवस्था लागू होने के बाद कार, ऑटो जैसे वाहनों की संख्या गांधी चौक से  लाइब्रेरी चौक एवं डाकघर चौक तक के मार्ग पर बढ़ी हुई है. ऐसे में मेन रोड पर ताजा प्रतिबंध आदेश की वजह से ट्राफिक समस्या कम होने की बजाय बढी है. जिससे परेशान नागरिकों ने इसे तुरंत हटाने की मांग की है.

विजय खंडेरा