सूखे के कामों में ढिलाई बर्दाश्त नहीं

बुलढाना. इस वर्ष जिले में सूखे के भीषण हालात दिखाई दे रहे हैं. सरकार की ओर से सूखे की स्थिति का अंतिम मुआयना किया जा रहा है. आने वाले समय में सूखे के कामों में ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों पर कड़ी

बुलढाना. इस वर्ष जिले में सूखे के भीषण हालात दिखाई दे रहे हैं. सरकार की ओर से सूखे की स्थिति का अंतिम मुआयना किया जा रहा है. आने वाले समय में सूखे के कामों में ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएंगी. ऐसी चेतावनी राज्य के कृषि राज्यमंत्री सदाभाऊ खोत ने दी. जिले में सूखे का ज़ायज़ा लेने खोत ने 2 दिनों तक दौरा किया. बुलढाना में ज़ायज़ा बैठक के बाद जिलाधिकारी कार्यालय में संवाददाताओं से चर्चा कर रहे थे.

पेयजल योजना के कार्य शीघ्र पूरा करें
खोत ने कहा कि इस वर्ष सूखे के हालात में जहां एक ओर भीषण जलकिल्लत का सामना करना पड़ सकता है, वहीं आने वाले समय में अनाज की किल्लत की गहरी संभावना है. मुख्यमंत्री पेयजल योजना के तहत जिले में 46 पेयजल योजनाओं के कामों को जल्द पूरा करने, छोटे जलापूर्ति योजनाओं को जल्द पूरा करने, जिन गांवों में कुओं का जलस्तर काफी नीचे चला गया है वहां पर टैंकर शुरू करने, खेती के लिए सिंचाई किए जाने वाले पानी को रोकने, चारा उत्पाद करने वाले बीजों का वितरण करने, जिले के हाईवे के लिए लगने वाले गौण खनिज को जिले के ही जलाशयों से निकालने के निर्देश उन्होंने दिये.

फसलों की कटाई का काम शुरू किया गया है. इसलिए फसल कटाई तकनीकी पर कितनी मात्रा में कटाई होती है, इससे भी जिले में खेती उत्पाद की स्थिति का अंदाजा लगाने का काम चल रहा है.

इस अवसर पर विधायक डा. संजय कुटे, जिलाधिकारी डा. निरुपमा डांगे, जिप अध्यक्ष उमा शिवचंद्र तायडे, महिला व बालकल्याण समिति सभापति श्वेता महाले, सीईओ षण्मुगराजन एस. आदि उपस्थित थे.