guatam adani news

  • 20,000 करोड़ रुपए का महा निर्गम

मुंबई: 19 ट्रिलियन रुपए से अधिक के बाजार पूंजीकरण वाले अडाणी ग्रुप (Adani Group) ने शेयर बाजार में जारी गिरावट के बावजूद अपनी शीर्ष कंपनी अडाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड (Adani Enterprises Ltd. -AEL) के महानिर्गम (Mega Public Issue) का ऐलान कर सबको चौंका दिया है। अडाणी इंटरप्राइजेज 1994 में 150 रुपए प्रति शेयर मूल्य पर अपना पहला निर्गम लेकर आई थी और अब 28 साल बाद 20,000 करोड़ रुपए का अनुवर्ती सार्वजनिक निर्गम (FPO) ला रही है, जो 27 जनवरी को खुलेगा और केंद्रीय बजट पेश होने के एक दिन पहले यानी 31 जनवरी 2023 को बंद होगा। यह भारतीय पूंजी बाजार के इतिहास का 11वां महानिर्गम है। यह पिछले साल आए एलआईसी (LIC) के 21,000 करोड़ रुपए के आईपीओ के बाद दूसरा बड़ा महानिर्गम है। भारत सरकार की सबसे मूल्यवान कंपनी होने के बावजूद एलआईसी के आईपीओ में निवेशकों को निराशा हाथ लगी और लिस्टिंग के दिन ही 8% का नुकसान उठाना पड़ा। 

कुछ ऐसा ही हाल यस बैंक, एसबीआई कार्ड, जीआईसी और कोल इंडिया के महानिर्गमों का हुआ था। सबसे बुरा हाल तो रिलायंस पावर और पेटीएम का हुआ। अभी तक जितने महा निर्गम आए हैं, उनमें से अधिकांश में निवेशकों को निराश होना पड़ा है। इसलिए निवेशकों में इस बात को लेकर चर्चा है कि क्या अडाणी इंटरप्राइजेज के महानिर्गम में फायदा होगा या नहीं?

सबसे बड़ा वेल्थ क्रिएटर ग्रुप

अरबपति उद्योगपति गौतम अडाणी (Gautam Adani) के नेतृत्व वाले समूह का ट्रैक रिकॉर्ड देखा जाए तो विगत वर्षों में यह सबसे बड़ा वेल्थ क्रिएटर (Wealth Creator) बन कर उभरा है। ग्रुप की कंपनियां भले ही ज्यादा प्रॉफिट नहीं कमा रही है, लेकिन इनके शेयर सबसे तेज गति से दौड़ रहे हैं और निवेशकों को मालामाल कर रहे हैं। पिछले तीन वर्षों में ग्रुप की 5 कंपनियों अडाणी पावर (Adani Power), अडाणी ग्रीन (Adani Green), अडाणी ट्रांसमिशन (Adani Transmission), अडाणी इंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) और अडाणी टोटल गैस (Adani Total Gas) ने तो 6 गुना से लेकर 36 गुना तक का छप्पर फाड़ रिटर्न दिया है। छठी कंपनी अडाणी पोर्ट (Adani Port) ने 3 गुना फायदा दिया है। ग्रुप की 7वीं कंपनी अडाणी विल्मर (Adani Wilmar) ने आईपीओ (IPO) लाने के बाद एक साल में ही करीब 3 गुना का जबरदस्त रिटर्न दिया है। पिछले साथ प्रमुख सीमेंट कंपनियों अंबुजा (Ambuja) और एसीसी (ACC) का टेकओवर करने के बाद इनमें भी अच्छा रिटर्न दिया है। ग्रुप पर सरकार से विशेष ‘मेहरबानी’ प्राप्त होने का आरोप भी लगता रहा है, लेकिन इन बातों से बेपरवाह ग्रुप जोरदार रिटर्न प्रदान कर निवेशकों का पसंदीदा बनता जा रहा है। 

रिटेल निवेशकों को आकर्षित करने की कोशिश

4 ट्रिलियन रुपए के बाजार पूंजीकरण के साथ अडाणी इंटरप्राइजेज की वर्तमान में इक्विटी पूंजी 114 करोड़ रुपए है, जिसमें प्रमोटरों की हिस्सेदारी 73% है। इस महानिर्गम के बाद भी कंपनी की इक्विटी पूंजी में मात्र 5% का इजाफा होगा और इक्विटी बढ़कर 120 करोड़ रुपए ही होगी। एफपीओ में कंपनी के एक रुपए फैस वैल्यू वाले शेयर का मूल्य दायरा 3112 से 3276 रुपए रखा गया है, जो सोमवार को बीएसई में बंद भाव 3434 रुपए की तुलना में 5% ही कम है। ऊंचे में इसका शेयर 4189 रुपए तक गया था। ग्रुप इस एफपीओ के जरिए रिटेल निवेशकों को ज्यादा संख्या में जोड़ना चाहता है। जिनके पास अभी मात्र 2 प्रतिशत शेयर हैं। तभी ग्रुप ने आवेदन के लिए लॉट साइज सिर्फ 4 शेयरों की रखी है और रिटेल निवेशक को प्रति शेयर 64 रुपए की छूट दे रहा है। एफपीओ में आवेदन राशि भी प्रति शेयर 50% यानी 1638 रुपए ही ली जा रही है। शेष बाद में ली जाएगी। 4 शेयरों के लिए आवेदन राशि 6296 रुपए ही होगी। इस एफपीओ में 6.15 करोड़ इक्विटी शेयर ऑफर किए जाएंगे।

ग्रीन हाइड्रोजन बिजनेस बनेगा गेमचेंजर!

मार्च 1993 में स्थापित अडाणी इंटरप्राइजेज भारत की सबसे बड़ी लिस्टेड बिजनेस इनक्यूबेटर (Business Incubator) है और 4 प्रमुख उद्योग क्षेत्रों एनर्जी और यूटिलिटी, ट्रांसपोर्टेशन और लॉजिस्टिक, कंज्यूमर और प्राइमरी इंडस्ट्री में कार्यरत है। इस कंपनी ने पिछले कुछ वर्षों में अडाणी समूह के लिए नए कारोबार की स्थापना में मदद की है। उन्हें 6 बड़े और आत्मनिर्भर व्यावसायिक खंड की तरह विकसित किया और बाद में उन्हें स्वतंत्र रूप से शेयर बाजारों में लिस्ट कराकर अपने लाखों शेयरधारकों का मूल्यवर्धन किया। अडाणी इंटरप्राइजेज के वर्तमान पोर्टफोलियो में एक ग्रीन हाइड्रोजन इकोसिस्टम, डेटा सेंटर, एयरपोर्ट, सड़क निर्माण, फूड एफएमसीजी, डिजिटल, माइनिंग, रक्षा और औद्योगिक विनिर्माण शामिल हैं। कंपनी नए अवसरों से फायदा उठा रही है, जिनमें ग्रीन हाइड्रोजन, एयरपोर्ट और डेटा सेंटर बिजनेस गेमचेंजर साबित हो सकते हैं। निकट भविष्य में एईएल अपनी कुछ और सहायक कंपनियों का डी-मर्जर कर सकती है या फिर आईपीओ ला सकती है। एईएल के पास 31,000 करोड़ रुपए का रिजर्व है तो 29,500 करोड़ रुपए का कर्ज भी है। वित्त वर्ष 2022-23 की पहली छमाही में कंपनी ने 79,000 करोड़ रुपए के कारोबार पर 901 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। जिस पर ईपीएस 8.23 रुपए और बुक वैल्यू 317 रुपए प्रति शेयर रही। कंपनी 3,276 रुपए प्रति शेयर के ऊपरी एफपीओ मूल्य पर देखा जाए तो 231 के पीई रेशियो पर निर्गम ला रही है।

अन्य महानिर्गमों की तुलना में अलग

अडाणी के इस मेगा एफपीओ में पहली नजर में ऑफर मूल्य खास आकर्षक नहीं लग रहा है। वर्तमान में जारी शेयर भाव के एफपीओ के बाद हिचकोले खाने की प्रबल गुंजाइश दिख रही है। विशेषज्ञों का मानना है कि इसके ग्रीन हाइड्रोजन और डेटा सेंटर बिजनेस में ग्रोथ की जबरदस्त संभावनाएं हैं। जिसका कंपनी के प्रॉफिट और शेयर भाव पर सकारात्मक प्रभाव हो सकता है। अडाणी का यह महानिर्गम अभी तक आए अन्य कंपनियों के महानिर्गमों की तुलना में काफी अलग दिखता है। अडाणी इंटरप्राइजेज की भावी विकास रणनीति और ग्रुप के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए कंपनी के एफपीओ में फ्यूचर प्रॉफिट अपॉर्च्युनिटी की झलक दिखाई देती है।

अडाणी एफपीओ: एक झलक

  • मूल्य दायरा : 3,112 से 3,276 रुपए प्रति शेयर
  • रिटेल निवेशक छूट : 64 रुपए प्रति शेयर
  • लॉट साइज : 4 शेयर              
  • आवेदन पर देय राशि : 50 प्रतिशत
  • शेष राशि भुगतान : शेयर आवंटन उपरांत
  • एफपीओ खुलने की तिथि : 27 जनवरी
  • एफपीओ बंद होने की तिथि : 31 जनवरी
  • शेयर आवंटन तिथि : 7 फरवरी
  • ऑफर में शेयर बिक्री : 6.15 करोड़ शेयर