रेस्टारंट, होटलों में बढा है डिस्पोजल का चलन, डिस्पोजल से मजदुरों की बचत

    भद्रावती. कोरोना कॉल में सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन मैं दौरान होटल व्यवसाई चाय दुकान और अल्पाहार के दुकानदारों ने डिस्पोजल का प्रयोग करना शुरू कर दिया है. क्योंकि लाकडाउन के दौरान महज पार्सल सुविधा शुरु थी. इसकी वजह से डिस्पोजल का चलन बढ गया है. इसकी वजह से दूकानदारों का काम बिना बर्तन साफ करने वाले से चल रहा है.

     लॉकडाउन के दौरान हर एक दुकान में जो कर्मचारी काम करते थे उनकी कमी के दौरान  होटल व्यवसाईयों ने डिस्पोजल का प्रयोग ज्यादा प्रमाण में किया जा रहा है. डिस्पोजल के फायदे देखते  हुए चाय नाश्ता ले जाने वालों के लिए डिस्पोजल का ही उपयोग कर रहे है. आज से कुछ साल पहले शादी हो या होटल हर जगह स्टील के बर्तन का उपयोग किया जाता था. लेकिन आज स्टील की जगह डिस्पोजल ने ले ली है.

    दुकानदारों का कहना यह है कि डिस्पोजल में देने से ग्राहक नाश्ता करने के बाद से डस्टबिन में डाल देता है. जिस वजह से दुकानों में यदि बर्तन साफ करने वाले कर्मचारी नहीं रहे तो भी काम आसान हो जाता है. इसकी वजह से बर्तन धोने वाले मजदूर की बचत के साथ बहसबाजी नहीं होती है क्योंकि कभी कभार स्टील के धुले बर्तन में कुछ जूठन रह जाता है. जिससे दूकानदारऔर ग्राहक के बीच कहासुनी होती है. स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह आइटम एकदम सुरक्षित है.

    कोरोना काल के पूर्व शादी विवाह समारोह में आने वाले अतिथियों को प्लास्टिक अथवा स्टील की कटोरी ओ का इस्तेमाल होता है किंतु किंतु भोजन के बाद बर्तनों को इकट्ठा करने में काफी मेहनत लगती थी और मजदूर भी लगते थे.  किंतु अब शादी समारोह में भी डिस्पोजल की कटोरी गिलास छोटे चम्मच का चलन बढ़ गया है. जिसकी वजह से आए लोग एक जगह पर इस तरह के बर्तन रख देते हैं और  भोजन कर डस्टबिन में डाल देते हैं इससे मेहनत और समय दोनों की बचत होती है.

    कई बार शादियों में बर्तन जमा करते समय उन में होने वाली कमी का अतिरिक्त भुगतान भी करना पड़ता था वह भी झंझट खत्म हो चुकी है. डिस्पोजल का उपयोग शहरों से लेकर ग्रामीण भागों तक किया जा रहा है. क्योंकि यह चीज सभी ओर से ठीक है क्योंकि इसमें मेहनत और समय दोनों की बचत होती है.

    डिस्पोजल का एक सबसे बड़ा फायदा यह है कि ग्राहक हो यह शादी में आने वाले मेहमानों सभी अपना अपना खाना खाकर प्लेट हो या डिस्पोजल का कोई भी सामान सभी चीज डस्टबिन में डाल देते हैं और उसके बाद यह  सारा का सारा सामान बाहर ले जाकर नष्ट कर दिया जाता है और यह नष्ट होने में भी ज्यादा दिक्कत नहीं आती और पर्यावरण को भी कोई नुकसान नहीं होता और यह तुरंत डिस्पोज हो जाता है इसलिए भी यह ज्यादा फायदेमंद साबित हो रहा है.