चंद्रपुर. वेकोलि माजरी क्षेत्र के एकोणा के विस्तारीकरण के लिए अधिग्रहित किए गए अधिकांश किसानों को अब तक मुआवजा और नौकरी नहीं मिल पाई है. सिंचाई व्यवस्था होने पर भी उक्त नियम से भाव नहीं दिया जा रहा है. एकोना प्रकल्प को गति देने की जिम्मेदारी वेकोलि प्रबंधन की है, परंतु इसके विलंब होने से खेद व्यक्त करते हुए पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने प्रकल्पग्रस्तों पर अन्याय न हो इसकी सावधानी बरतने की सूचना क्षेत्रीय महाप्रबंधक गुप्ता से की.

15 दिनों पूर्ण होगी कार्यवाही

क्षेत्रीय महाप्रबंधक से प्रकल्पग्रस्तों की उपस्थिति में कई विषयों पर उन्होंने चर्चा की. बैठक में माजरी क्षेत्र के क्षेत्रीय महाप्रबंधक ने मुआवजा व नौकरी के संदर्भ में विलंब होने की बात को कबूल किया. आगामी 15 दिनों में संबंधित प्रकल्पग्रस्तों के आवेदन, आवश्यक कागजात मंगवाकर कार्यवाही करने की जानकारी दी. 2 दिनों में वेकोलि मुख्यालय में प्रस्ताव भेजकर मंजूरी प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी. उसके बाद मेडिकल की कार्यवाही करेंगे. सिंचाई भूमि का भाव उपलब्ध कराने के लिए उपविभागीय अधिकारी वरोरा की अध्यक्षता में बैठक का ब्योरा प्राप्त होने के बाद सिंचाई भूमि का दाम देने का आश्वासन अहीर को क्षेत्रीय महाप्रबंधक ने दिया.

OB ठेकेदार पर कार्रवाई करें

माजरी क्षेत्र के ओवरबर्डन(ओ.बी.) का काम करने वाले संबंधित ठेकेदार स्थानीय युवाओं को काम पर नहीं लेने की शिकायतें मिल रही हैं. इन शिकायतों की दखल लेने की बात कही. सभी ठेकेदारों को राज्य शासन के जी.आर. पर अमल कर 80 प्रश स्थानीय लोगों को काम पर लेने के लिए वेकोलि प्रशासन ने त्वरित नोटिस निकालकर आदेश देने की सूचना क्षेत्रीय महाप्रबंधक से की. इस समय वरिष्ठ अधिकारी कार्मिक प्रबंधक नायर, जोशी, धनंजय पिंपलशेंडे, छोटू पहापले, एम.पी. राव, अंकुश आगलावे, राकेश तालावार, राहुल वनसिंगे, शुभम गेघाटे समेत 200 से अधिक एकोणा प्रकल्पग्रस्त उपस्थित थे.

चंद्रपुर. वेकोलि माजरी क्षेत्र के एकोणा के विस्तारीकरण के लिए अधिग्रहित किए गए अधिकांश किसानों को अब तक मुआवजा और नौकरी नहीं मिल पाई है. सिंचाई व्यवस्था होने पर भी उक्त नियम से भाव नहीं दिया जा रहा है. एकोना प्रकल्प को गति देने की जिम्मेदारी वेकोलि प्रबंधन की है, परंतु इसके विलंब होने से […]